एक लाइन शायरी – 1 Line Shayari in Hindi

कुछ लोग जाहिर नहीं करते लेकिन परवाह बहुत करते हैं।

भूखा पेट और हल्का जेब जीवन में बहुत कुछ सिखा जाते हैं।

एक हार से कोई फ़क़ीर, और एक जीत से कोई सिकंदर नहीं बनता।

कोई रोता बस उसीके लिए है जिससे वो सच्चा प्यार करता है।

जिंदगी उसी के साथ खेलती है जो अच्छा खिलाड़ी है।

मेरी आम सी जिंदगी में बहुत खास हो तुम।

यादें क्यों नहीं बिछड़ जाती, लोग तो पल में बिछड़ जाते हैं।

खिलाफ कितने हैं ये मुद्दा नहीं बस साथ कितने हैं ये जरूरी हैं।

मुस्कुराता तो रोज हूँ, पर हँसते हुए जमाना हो गया।

तेरे चेहरे पे मुस्कान, जान है हमारी।

किसी का दिल ना दुखाओ, क्योंकि तुम भी दिल रखते हो।

वो आईना देख मुस्कुरा के बोली, बेमौत मरेगा मुझ पर मरने वाला।

बात उन्हीं की होती है, जिनमें कोई बात होती है।

एक तुम ही काफी थे उम्र सारी गुजारने को।

वो मेरी आखिरी सरहद हो जैसे, सोच जाती ही नहीं उससे आगे।

रात यूँ सांस रुक गयी मेरी, तू मुझे भूल गया हो जैसे।

आज मेरी माँ ने बताया मुझे, बचपन मे कभी मै भी हँसता था।

अकेले वारिस हो तुम मेरे बेशुमार चाहतों के।

कोई याद बन गया कोई ख्वाब, उफ़ ये दूरियां।

मक्खन लगाने वाले लोग ही अक्सर चुना लगा जाते है।

तेरे चेहरे पर हलकी मुस्कान, मिटा देती है दिन का थकान।

ए दर्द कुछ तो डिस्काउंट दे, मैं तेरा रोज़ का ग्राहक हूँ।

दुश्मनों ने जो दुश्मनी की है, दोस्तों ने भी क्या कमी की है।

नज़र अंदाज़ करते है वो, मतलब हम नज़र में तो है।

कहा जख्म खोल बैठा पगले, ये शहर नमक का है।