आंखें शायरी – Aankhen Shayari in Hindi

अदाएं कातिल होती हैं आंखें नशीली होती हैं
मोहब्बत में अक्सर ओंठ सूखे होते है आंखें गीली होती हैं

पल पल तुम्हारी याद सताती है
तुम्हारे इंतजार में आंखें नम हो जाती है
मेरा चेहरा पढ़कर हर कोई कहता है
तुम्हें भी किसी का इंतजार रहता है

दरिया की दहलीज पे ठहरी सोच रही है यह आंखें
कितना वक्त लगेगा आखिर सारे ख्वाब बहाने में

किसी ने मुझसे कहा
तुम्हारी आंखें बहुत प्यारी हैं
मैंने हंसकर कहा
बारिश होने के बाद
अक्सर मौसम हसीन हो जाता है

समुंदर में उतरता हूं तो आंखें भीग जाती हैं
तेरी आंखों को पड़ता हो तो आंखें भीग जाती हैं
तुम्हारा नाम लिखने की इजाजत मिल गई जब से
भी कोई लफ्ज़ लिखता हूं तो आंखें भीग जाती हैं

हया आंखों में हो तो पर्दा दिल का ही काफी है
बेहया आंखें हो तो इशारे नकाब में भी हो जाते हैं

जख्म इतना गहरा है इजहार क्या करें
हम खुद निशाना बन गए वार क्या करें
सो गए हम मगर खुली रही आंखें
इससे ज्यादा हम उनका इंतजार क्या करें