आशिक शायरी | Aashiq Shayari

आशिक़ी शायरी – Aashiqui Shayari in Hindi

सुन्दर चेहरे के लिए आशिक़ो की कमी नहीं
तलाश तो उसकी है जो दिल से प्यार करे

कोई देखे नही आशिकी उम्र भर
मनाती रही मै नाखुशी इस कदर
नाम उसका लबों पर ना आया कभी
यूँ निभाती रही आशिकी उम्र भर

हुस्न वालों की नियत
जबसे खराब हो गई
जिन्दगी आशिकों की तबसे
बर्बाद हो गई

गज़ब की आशिकी है
तेरी इन निगाहो में
जब भी देखती है डूबने को
मजबूर कर देती है

वक़्त जब बुरे थे तब तुम थे मेरे साथ
अगर आज मेरे अच्छे वक़्त में तुम नही रहोगे
तो क्या करूँगा ये अच्छे वक़्त का