Allah Shayari | बेस्ट 87+ अल्लाह शायरी

allah shayari zindagi … … in hindi … dp … images … in english sad … dua … naseeb zindagi … … in urdu … images hindi ya … … urdu

Allah Shayari In Hindi, अल्लाह शायरी हिंदी में – आज का संग्रह बहुत अहम है । जिसमे आपके लिए Allah Shayari देंगे । एंजॉय शायरी की टीम हर संभव कोशिश करती है । आपकी पसंद का ध्यान आकर्षित और संबंधित स्टेज वाली सामग्री हेतु ।

हमने जितने भी अल्लाह शायरी या उनके इमेज दिए है । उन्हें आपको बिना किसी झिजक के शेयर करना है । एवं अपनी उत्सुकता के साथ कॉमेंट करके बताना है । या सब्सक्राइब के लिए अपना आकर्षक स्वरूप दिखाना है ।

हमारी टीम के साथ जुड़कर अपने शायरी या स्टेटस भेजें । और हमारे साथ लोगों तक आपका कंटेंट पहुंचाना चाहते हैं । तो संपर्क कर सकते हैं । ये सभी Allah Shayari Hindi की 2 या 4 लाइन वाली और अन्य के साथ जोड़ा गया है।

आपका समय अमूल्य है, इसलिए हम आपका समय खराब नही करेंगे । नीचे कुछ वर्ड के बाद आप अपनी पसंदीदा चयनित शायरियां पढ़ेंगे । और कमेंट And शेयर कर पाएंगे । पर उससे पहले हमारी सिर्फ सराहनीय और उत्सुकता भरी जानकारी देंगे । अन्य संबधित पोस्ट को पढ़ने के आग्रह को स्वीकार करे । और अल्लाह संबंधित को पढ़कर, उसे भी पढ़ने का वादा करें।

Allah Shayari In Hindi (हिंदी में अल्लाह शायरी)

ठीक है, अब आप अपनी जिज्ञासा को जगाए । और हमारी टीम द्वारा प्रस्तुत सभी ये Allah Shayri In Hindi . अल्लाह शायरी हिंदी में को पढ़ें;

Also Read:- Anmol vachan
Also Read:- Anmol vachan Suvichar
Also Read:- Anniversary Quotes In Hindi
Also Read:- Anniversary Shayari In Hindi
Allah Shayari

 

मुझे खुदा के इन्साफ पर उस दिन यकीन हो गया जब मैंने अमीर और गरीब का एक जैसा कफ़न देखा।

 

दुआओं का कोई रंग नहीं होता लेकिन जब यह रंग लाती है तो जिंदगी रंगों से भर जाती है।

 

गम और मुश्किलात सिर्फ अल्लाह ता आला को बताया करो इस यक़ीन के साथ कि वह तुम्हें जवाब भी देगा और तुम्हारी तकलीफ दूर कर देगा।

 

वह दिन कभी मत दिखाना मेरे मालिक कि मुझे अपने आप पर गुरुर हो जाए, रखना मुझे सब के दिलों में की हर कोई दिल से दुआ दे जाए।

 

दुनिया में कोई इतनी शिद्दत से किसी का इंतजार नहीं करता जितना अल्लाह अपने बंदे की तौबा का इंतजार करते हैं।

 

जो बंदा किसी को माफ कर देता है, अल्लाह उसके बदले उसकी इज्जत बढ़ा देते हैं।

 

वो पहले सा कहीं मुझको कोई मंज़र नहीं लगता यहाँ लोगों को देखो अब ख़ुदा का डर नहीं लगता।

 

जब मुझे पता चला कि मखमल के बिस्तर पर सोने वाले और जमीन पर सोने इन्सान के ख्वाब एक जैसे होते हैं तब मुझे अल्लाह के इंसाफ पर यकीन आ गया।

 

अल्लाह कभी दूसरा दर खोले बगैर पहला दर बंद नहीं करता।