Armaan Shayari अरमान शायरी हिंदी में (2022-23)

Armaan Shayari In Hindi | अरमान शायरी हिंदी में

Armaan Shayari In Hindi (अरमान शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Armaan Shayari In Hindi | अरमान शायरी हिंदी में  Armaan Shayari In Hindi (अरमान शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Armaan Shayari अरमान शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Armaan Shayari
अभी अरमान कुछ बाकी हैं दिल में
मुझे फिर आजमाया जा रहा है

मुकीम ए दिल हैं वो अरमान जो पूरे नहीं होते
ये वो आबाद घर है जिस की वीरानी नहीं जाती

अरमान वस्ल का मिरी नजरों से ताड़ के
पहले ही से वो बैठ गए मुँह बिगाड़ के

Armaan Shayari अरमान शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

दिल में फिर वस्ल के अरमान चले आते हैं
मेरे रूठे हुए मेहमान चले आते हैं

Armaan Shayari अरमान शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

क्या क्या दिल ए मुज्तर के अरमान मचलते हैं
तस्वीर ए कयामत है जालिम तिरी अंगड़ाई

बड़े अरमान से निकला था शॉपिंग के लिए घर से
क्लोजिंग पे हर इक बाजार था कल शब जहाँ मैं था

दिल से अगर कभी तिरा अरमान जाएगा
घर को लगा के आग ये मेहमान जाएगा

सीने से लगाएँ तुम्हें अरमान यही है
जीने का मजा है तो मिरी जान यही है

यूँ खाक में मिला के न अरमान जाइए
गुस्से को थूक दीजिए और मान जाइए

दिल में जो मर जाए वो है अरमाँ
जो निकले अरमान नहीं है

आज तक कोई न अरमान हमारा निकला
क्या करे कोई तुम्हारा रुख ए जेबा ले कर

मेरी अरमान भरी आँख की तासीर है ये
जिस को मैं प्यार से देखूँगा वही तू होगा

आप हों हम हों मय ए नाब हो तन्हाई हो
दिल में रह रह के ये अरमान चले आते हैं

जिंदगी छोटी है सामान बहुत
और दिल के भी हैं अरमान बहुत

हजरत ए दिल आप हैं किस ध्यान में
मर गए लाखों इसी अरमान में

बैठे रहो कुछ देर अभी और मुकाबिल
अरमान अभी दिल के हमारे नहीं निकले

हमारे दिल से क्या अरमान सब इक साथ निकलेंगे
कि कैदी मुख्तलिफ मीआ द के होते हैं जिंदाँ में

अरमाँ बस एक लज्जत ए इजहार के सिवा
मिलता है क्या खयाल को लफ्जों में ढाल कर

इस कदर था खटमलों का चारपाई में हुजूम
वस्ल का दिल से मिरे अरमान रुख्सत हो गया

लज्जत ए इश्क इलाही मिट जाए
दर्द अरमान हुआ जाता है