Aurat Shayari औरत शायरी हिंदी में (2022-23)

Aurat Shayari In Hindi | औरत शायरी हिंदी में

Aurat Shayari In Hindi (औरत शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Aurat Shayari In Hindi | औरत शायरी हिंदी में  Aurat Shayari In Hindi (औरत शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Aurat Shayari

है कामयाबी ए मर्दां में हाथ औरत का
मगर तू एक ही औरत पे इंहिसार न कर

औरत ने जनम दिया मर्दों को मर्दों ने उसे बाजार दिया
जब जी चाहा मसला कुचला जब जी चाहा धुत्कार दिया

तू आग में ऐ औरत जिंदा भी जली बरसों
साँचे में हर इक गम के चुप चाप ढली बरसों

कौन बदन से आगे देखे औरत को
सब की आँखें गिरवी हैं इस नगरी में

शो केस में रक्खा हुआ औरत का जो बुत है
गूँगा ही सही फिर भी दिल आवेज बहुत है

औरत हूँ मगर सूरत ए कोहसार खड़ी हूँ
इक सच के तहफ्फुज के लिए सब से लड़ी हूँ

माना जीवन में औरत इक बार मोहब्बत करती है
लेकिन मुझ को ये तो बता दे क्या तू औरत जात नहीं

औरत को समझता था जो मर्दों का खिलौना
उस शख्स को दामाद भी वैसा ही मिला है

औरत अपना आप बचाए तब भी मुजरिम होती है
औरत अपना आप गँवाए तब भी मुजरिम होती है

पत्थर मार के चौराहे पर इक औरत को मार दिया
सब ने मिल कर फिर ये सोचा उस ने गलती क्या की थी

एक औरत से वफा करने का ये तोहफा मिला
जाने कितनी औरतों की बद दुआएँ साथ हैं

औरत हो तुम तो तुम पे मुनासिब है चुप रहो
ये बोल खानदान की इज्जत पे हर्फ है

औरत के खुदा दो हैं हकीकी ओ मजाजी
पर उस के लिए कोई भी अच्छा नहीं होता

मिट्टी पे नुमूदार हैं पानी के जखीरे
इन में कोई औरत से जियादा नहीं गहरा

जमाने अब तिरे मद्द ए मुकाबिल
कोई कमजोर सी औरत नहीं है

बताऊँ क्या तुझे ऐ हम नशीं किस से मोहब्बत है
मैं जिस दुनिया में रहता हूँ वो इस दुनिया की औरत है

गो मुझे एहसास ए तन्हाई रहा शिद्दत के साथ
काट दी आधी सदी एक अजनबी औरत के साथ

सियासत के चेहरे पे रौनक नहीं
ये औरत हमेशा की बीमार है

जिस को तुम कहते हो खुश बख्त सदा है मजलूम
जीना हर दौर में औरत का खता है लोगो

तुम भी आखिर हो मर्द क्या जानो
एक औरत का दर्द क्या जानो