Awaaz Shayari आवाज़ शायरी हिंदी में (2022-23)

Awaaz Shayari In Hindi | आवाज शायरी हिंदी में

Awaaz Shayari In Hindi (आवाज शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Awaaz Shayari In Hindi | आवाज शायरी हिंदी में  Awaaz Shayari In Hindi (आवाज शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Awaaz Shayari आवाज़ शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Awaaz Shayari
अधूरे लफ्ज थे आवाज गैर वाजेह थी
दुआ को फिर भी नहीं देर कुछ असर में लगी

मेरी आवाज को आवाज ने तक्सीम किया
रेडियो में हूँ टेलीफोन के अंदर हूँ मैं

बे सदा क्यूँ गुजरते हो आवाज दो
अब भी कुछ लोग अंदर मकानों में हैं

Awaaz Shayari आवाज़ शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

अल्फाज न आवाज न हमराज न दम साज
ये कैसे दोराहे पे मैं खामोश खड़ी हूँ

Awaaz Shayari आवाज़ शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

लफ्ज और आवाज दोनों खो गए
मुझ से हक छीना गया है बात का

शिकस्त ए दिल की हर आवाज हश्र आसार होती है
मगर सोई हुई दुनिया कहाँ बेदार होती है

उस के वा दे के एवज दे डाली अपनी जिंदगी
एक सस्ती शय का ऊँचे भाव सौदा कर लिया

मसीहा जा रहा है दौड़ कर आवाज दो मुज्तर
कि दिल को देखता जा जिस में छाले पड़ते जाते हैं

मैं ने बेताबाना बढ़ कर दश्त में आवाज दी
जब गुबार उट्ठा किसी दीवाने का धोका हुआ

आवाज दे के देख लो शायद वो मिल ही जाए
वर्ना ये उम्र भर का सफर राएगाँ तो है

आवाज की दीवार भी चुप चाप खड़ी थी
खिड़की से जो देखा तो गली ऊँघ रही थी

एक आवाज तो गूँजी थी उफुक ता ब उफुक
कारवाँ गुम है कहाँ गर्द ए सफर से पूछो

मैं ने आवाज तुम्हें दी है बड़े नाज के साथ
तुम भी आवाज मिला दो मिरी आवाज के साथ

बिन आवाज पुकारें हर दम नाम तिरा
शायद हम भी पागल होने वाले हैं

दूर तक आवाज दे आया हूँ मैं
देखना ये है कि आता कौन है

वो कुछ रूठी हुई आवाज में तज्दीद ए दिल दारी
नहीं भूला तिरा वो इल्तिफात ए सर गिराँ अब तक

क्या मुसीबत है कि हर दिन की मशक्कत के एवज
बाँध जाता है कोई रात का पत्थर मुझ से

उस की आवाज में थे सारे खद ओ खाल उस के
वो चहकता था तो हँसते थे पर ओ बाल उस के

चाँद को तुम आवाज तो दे लो
एक मुसाफिर तन्हा तो है

तुझ को आवाज दूँ और दूर तलक तू न मिले
ऐसे सन्नाटों से अक्सर मुझे डर लगता है