Badal Shayari | 52+ बादल शायरी हिंदी में

Badal Shayari In Hindi, बादल शायरी हिंदी में – आज का संग्रह बहुत अहम है । जिसमे आपके लिए Badal Shayari देंगे । एंजॉय शायरी की टीम हर संभव कोशिश करती है । आपकी पसंद का ध्यान आकर्षित और संबंधित स्टेज वाली सामग्री हेतु ।

हमने जितने भी बादल शायरी या उनके इमेज दिए है । उन्हें आपको बिना किसी झिजक के शेयर करना है । एवं अपनी उत्सुकता के साथ कॉमेंट करके बताना है । या सब्सक्राइब के लिए अपना आकर्षक स्वरूप दिखाना है ।

हमारी टीम के साथ जुड़कर अपने शायरी या स्टेटस भेजें । और हमारे साथ लोगों तक आपका कंटेंट पहुंचाना चाहते हैं । तो संपर्क कर सकते हैं । ये सभी Badal Shayari Hindi की 2 या 4 लाइन वाली और अन्य के साथ जोड़ा गया है।

Badal Shayari

आपका समय अमूल्य है, इसलिए हम आपका समय खराब नही करेंगे । नीचे कुछ वर्ड के बाद आप अपनी पसंदीदा चयनित शायरियां पढ़ेंगे । और कमेंट And शेयर कर पाएंगे । पर उससे पहले हमारी सिर्फ सराहनीय और उत्सुकता भरी जानकारी देंगे । अन्य संबधित पोस्ट को पढ़ने के आग्रह को स्वीकार करे । और बादल संबंधित को पढ़कर, उसे भी पढ़ने का वादा करें।

Badal Shayari In Hindi 2 Line (हिंदी में बादल शायरी 4 Line)

ठीक है, अब आप अपनी जिज्ञासा को जगाए । और हमारी टीम द्वारा प्रस्तुत सभी ये Badal Shayri In Hindi . बादल शायरी हिंदी में को पढ़ें;

Also Read:-  change Shayari In Hindi
Also Read:-  chunav Shayari In Hindi
Also Read:-  chutkule
Also Read:-  cigarette Shayari In Hindi

आज फ़िर लड़ाई हो गई हैं बादल से,
आज फ़िर बारिश जमीं पर आ गई…

 

दूर तक फैला हुआ पानी ही पानी हर तरफ़
अब के बादल ने बहुत की मेहरबानी हर तरफ़

 

जो कभी बादलों के गरजने पर लिपट जाया करती थी मुझसे,
वो आज बादलों से भी ज़्यादा गरजती है ।

 

जब ना होती है तुमसे बात तो डरावने से लगते हैं
ये काले ‘ बादल ‘ और ये गुमसुम सी रात।

 

ये आँखें हैं,कोई बादल थोड़ी है…
ये बंदा इश्क़ में है,कोई पागल थोड़ी है…
और मरहम ले आये हो तुम,यूँ हिज़्र के बाद…
अरे यहाँ कोई घायल थोड़ी है…

 

एक बादल से आस थी प्यास बुझाने की ,
ये बेवफा हवाये उसे भी दूर ले उड़ी

 

बहुत कुछ सीखना अब भी बाकी है ,
ज़िंदगी के और इम्तिहान अभी बाकी है।
ये जो हासिल हुआ मुकाम तो फ़क़त बादल है,
अभी जीतने को पूरा आसमान बाकी है।

 

आसमान में टूटे बादलों के जैसे बिछड़ गए हो,
कहीं धूप तो कहीं बारिश जैसे बिखर गए हो।