Bandhan Shayari बंधन शायरी हिंदी में (2022-23)

Bandhan Shayari In Hindi | बंधन शायरी हिंदी में

Bandhan Shayari In Hindi (बंधन शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Bandhan Shayari In Hindi | बंधन शायरी हिंदी में  Bandhan Shayari In Hindi (बंधन शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Bandhan Shayari
प्यार के बंधन खून के रिश्ते टूट गए ख्वाबों की तरह
जागती आँखें देख रही थीं क्या क्या कारोबार हुए

बंधन सा इक बँधा था रग ओ पय से जिस्म में
मरने के ब अद हाथ से मोती बिखर गए

साँस लेता हूँ कि पत झड़ सी लगी है मुझ में
वक्त से टूट रहे हैं मिरे बँधन जैसे

कौन से दुख को पल्ले बाँधें किस गम को तहरीर करें
याँ तो दर्द सिवा होता है और भी अर्ज ए हाल के ब अद

गुल दस्ता ए मअनी को नए ढंग से बाँधूँ
इक फूल का मजमूँ हो तो सौ रंग से बाँधूँ

ध्यान बाँधूँ हूँ जो मैं उस की हम आगोशी का
देर तक रहती हैं मिज्गाँ मिरी मिज्गाँ से लिपट