Bharosa Shayari | 242+ भरोसा शायरी

Bharosa Shayari In Hindi, भरोसा शायरी हिंदी में – आज का कंटेंट बहुत विशेष है । जिसमें आपके लिए Bharosa Shayari देंगे । आपकी पसंद का ध्यान आकर्षित और संबंधित स्टेज वाली सामग्री हेतु । एंज्वॉय शायरी वेबसाइट की टीम हर संभव प्रयास कर रही है ।

Bharosa Shayari

हमने जितने भी भरोसा शायरी या उनके इमेज दिए है । उन्हें आपको बिना किसी झिजक के शेयर या अन्य कॉपी करना है । एवं अपनी उत्सुकता के साथ कॉमेंट करके जाना है । या सब्सक्राइब के लिए अपना आकर्षक स्वरूप दिखाना है ।

हमारी टीम के साथ मिलाकर अपने शायरी या स्टेटस भेजें । और हमारे साथ लोगों तक आपका कंटेंट पहुंचाना हैं । तो संपर्क कर सकते हैं । ये सभी Bharosa Shayari Hindi की 2 या 4 लाइन वाली और अन्य के साथ जोड़ा गया है।

आपका समय कीमती है, इससे हम आपका समय खराब नही करेंगे । नीचे कुछ शब्दों के बाद अपनी पसंदीदा शायरियां पढ़ेंगे । और कमेंट And शेयर कर पाएंगे । पर पहले हम सिर्फ सराहनीय और उत्सुकता भरी जानकारी देंगे । अन्य संबधित पोस्ट को पढ़ने के आग्रह को स्वीकार करे । और भरोसा संबंधित को पढ़कर, उसे भी पढ़ने का वादा करें।

Bharosa Shayari In Hindi (हिंदी में भरोसा शायरी)

ठीक है, अब अपनी जिज्ञासा को जगाए । और हमारी टीम द्वारा प्रस्तुत ये सभी Bharosa Shayri In Hindi . भरोसा शायरी हिंदी में को पढ़ें;

Also Read:- Family Quotes In Hindi
Also Read:- Family Shayari In Hindi
Also Read:- Family Status In Hindi

Bharosa Shayari 👍Bharosa Shayari

Bharosa Shayari in Hindi – भरोसा शायरी इन हिंदी

उनका भरोसा मत करो,
जिनका ख्याल वक्त के साथ बदल जाऐ,
भरोसा उनका करो जिनका ख्याल तब भी,
वैसा ही रहे जब आपका वक्त बदल जाऐ।

 

आज शाम हुई कल फिर सूरज निकलेगा,
भरोसा रख अपने आप पर हर पल तू निखरेगा।

 

सिखा दिया दुनिया ने मुझे अपनो पर भी शक करना,
मेरी फितरत में तो गैरों पर भी भरोसा करना था।

 

जब सब तोल रहे थे मुझे ना उम्मीदी के तराज़ू में,
एक वही तो था जिसने भरोसा जताया मुझ में।

 

बहुत ख़ामोशी से टूट गया,
वो एक भरोसा जो उस पे था।

 

नसीब से ज्यादा भरोसा किया था तुम पर,
नसीब इतना नहीं बदला जितना तुम बदल गये।

 

गिर पड़े उस पत्थर से टकरा कर ज़मीं पर हम,
भरोसे की नीव कह जिसे कभी अपनों ने रखा था।

 

जो चाहे वो पा लेता है इंसान,
विश्वास में इतना दम होता है,
जो इंसान को ईश्वर देता है,
वो कभी भी कम नहीं होता हैं।

 

जब कोई आपसे अपनी,
हर बात शेयर करने लगता है,
तो समझ जाना की वो आप पर,
खुद से ज़्यादा भरोसा करता है।

 

निगाहों में अभी तक दूसरा कोई चेहरा ही नहीं आया,
भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का।

 

बेशक किसी को माफ बार-बार करो,
लेकिन भरोसा सिर्फ एक बार करो।

 

प्यार में तो बस भरोसा होना चाहिए,
शक तो पूरी दुनिया करती हैं।

 

कोई भरोसे के लिए रोता है,
कोई भरोसा करके रोता है।

 

अब ज़रा सा भी किसी पर भरोसा नही होता हैं,
और जब भी होता हैं दर्द बड़ा ही बेहद होता हैं।

 

जिंदगी की सबसे अनमोल चीज भरोसा,
जितनी आसानी से होता नहीं,
उतनी आसानी से टूट जरूर जाता है।

 

क्यो भरोसा करू किसी और पर,
जब खुद की आंखे खुद को धोखा दे।

 

भरोसा रख मुहब्बत पर, मुहब्बत रंग लाएगी,
ज़माना हार जाएगा, मुहब्बत जीत जाएगी।

 

प्यार और भरोसा दो ऐसे पंछी हैं,
अगर इनमें से एक उड़ जाए तो,
दूसरा अपने आप उड़ जाता है।

 

मुझे खामोश देखकर इतना हैरान क्यों होते हो दोस्तों,
कुछ नहीं हुवा है बस भरोसा कर के धोखा खाया है।

 

बात भरोसे की ना कर ऐ दिल तू किसी गैर से,
मौसम से ज्यादा, इन्ही लोगों को बदलते देखा है मैंने।

 

नसीब से ज्यादा भरोसा तुम पर किया,
फिर भी नसीब इतना नहीं बदला जितना तुम बदल गई।

 

आप जिस पर आँख बंद करके भरोसा करते हैं,
अक्सर वही आप की आँखें खोल जाते है।

 

हर इक पल सामने मेरे तुम्हारा ही ये चेहरा हो,
तुम्हारी ही महक लाता हवाओं का ये पहरा हो,
तुम्हारे प्यार में पागल हुआ दिल कह रहा है अब,
तुम्हें मुझ पर भरोसा और गहरा और गहरा हो।

 

झड़ गए पत्ते उम्मीदों के सारे,
मग़र जड़ भरोसे की मजबूत बहुत है।

 

रिश्ते दिल टूटने पर नहीं,
भरोसा टूटने पर बिखरते है।

 

भरोसे के बाज़ार में जिंदगी बेची थी मैंने,
तब जा के कहीं पाया हैं ये लहेजा मैंने।

 

मेरे दिल कि सरहद को पार न करना,
नाजुक है दिल मेरा वार न करना,
खुद से बढ़कर भरोसा है मुझे तुम पर,
इस भरोसे को तुम बेकार न करना।

 

मैंने तुम पर भरोसा किया,
पर तुमने मुझे धोखा दिया,
अब किसी और पे ना भरोसा होगा,
और ना किसी से दोबारा प्यार होगा।

 

जब जब भरोसा किया है मेने,
तब तब भरोसा टूटा है मेरा,
अब तो किसी पर भरोसा करने का,
मन ही नही करता है मेरा।

 

अक्सर बुरी सीरतों की सूरतें भी हसीन हुआ करती हैं,
संभलना लोग भरोसे पर छुरी चलाते कतराते नहीं हैं।

 

भरोसा तब नहीं टूटता जब कोई रूठ जाता है,
भरोसा तब टूटता है जब कोई दिल तोड़ जाता है।

 

भरोसा कर लिया है मैंने तेरे झूठ पर भी,
तुझे खुदा जो माना है।

 

समुंदर की लहरों पर भरोसा कर बैठे,
कल वो डुबा कर हमें किनारा कर बैठे।

 

ना रुक ना झुक, रख भरोसा बस चलता जा,
मंज़िल ना मिले तब तक बस बढ़ता जा।

 

वहम था मेरा,
जो तुम पर भरोसा किया,
लोगों ने तो सिर्फ दिल तोड़ा था,
तुमने तो मेरा रूह निचोड़ दिया।

 

किसी पर इतना भरोसा रखो,
कि कोई उसे तोड़ ना पाए,
चाहे कोई कितनी भी कोशिश कर ले,
रिश्तों का कुछ उखाड़ ना पाए।

 

प्यार में कोई तो दिल तोड़ देता है,
दोस्ती में कोई तो भरोसा तोड़ देता है,
ज़िंदगी जीना तो कोई ग़ुलाब से सीखे,
जो खुद टूट कर दो दिलों को जोड़ देता है।

 

यूं तो हर गुनाह का कफ़ारा नहीं होता,
उठ जाए जो एक दफा भरोसा दुबारा नहीं होता।

 

सब पर भरोसा है, पर कुछ नहीं हासिल है,
जिस तरफ पीठ करो, वहीं खड़ा कातिल है।

 

रोक लो नैनों को लकीरें भी बह जाएंगीं वरना,
आज रोक लो हमें, कल का भरोसा मत करना।

 

आजकल न जाने कब,
बदल जाए इंसान भरोसा नहीं,
कहते हैं जो भरोसा करो हम पर,
अक्सर भरोसा तोड़ते हैं वहीं।

 

उसकी हँसी पर क्या भरोसा करना,
जो शख़्स खुलकर कभी रोया न हो।

 

भरोसा खुद पर रखो तो ताकत बन जाती है,
और दूसरों पर रखो तो कमजोरी बन जाती है।

 

खुद में काबिलियत हो तो भरोसा कीजिये साहिब,
सहारे कितने भी अच्छे हो साथ छोड जाते है।

 

जिंदगी का भरोसा नहीं कब तक साथ निभाएगी,
पर मौत पर ऐतबार है एक दिन ज़रूर आएगी।

 

अब इन लहरो पर क्या भरोसा करूं,
जब वो मेरे विपरीत ही चल रही है,
मुझे तो इन हवाओं पर भरोसा है,
जो मेरे पतवार को सहारा दे रही है।

 

लोगों के पास बहुत कुछ है,
मगर मुश्किल यही है की,
भरोसे पे शक है और,
अपने शक पे भरोसा है।

 

एक बार फ़िर शक भरोसे से सबूत मांग रहा है,
हँस रही है क़िस्मत, फ़िर एक रिश्ता दफ़न हो रहा है।

 

दिल का दर्द एक राज बनकर रह गया,
मेरा भरोसा मजाक बनकर रह गया,
दिल के सोदागरो से दिल्लगी कर बैठे,
शायद इसीलिए मेरा प्यार इक अल्फाज बनकर रह गया।