Chup Shayari चुप शायरी हिंदी में (2022-23)

Chup Shayari In Hindi | चुप शायरी हिंदी में

Chup Shayari In Hindi (चुप शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Chup Shayari In Hindi | चुप शायरी हिंदी में Chup Shayari In Hindi (चुप शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Chup Shayari चुप शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Chup Shayari

ऐ दिल ए बे करार चुप हो जा
जा चुकी है बहार चुप हो जा

चुप चुप क्यूँ रहते हो नासिर
ये क्या रोग लगा रक्खा है

Chup Shayari चुप शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

तुम ने कहा था चुप रहना सो चुप ने भी क्या काम किया
चुप रहने की आदत ने कुछ और हमें बदनाम किया

Chup Shayari चुप शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

मौत खामोशी है चुप रहने से चुप लग जाएगी
जिंदगी आवाज है बातें करो बातें करो

तेरी रूह में सन्नाटा है और मिरी आवाज में चुप
तू अपने अंदाज में चुप है मैं अपने अंदाज में चुप

आँखों में नमी सी है चुप चुप से वो बैठे हैं
नाजुक सी निगाहों में नाजुक सा फसाना है

दम ए रुख्सत वो चुप रहे आबिद
आँख में फैलता गया काजल

हजारों जुल्म हों मजलूम पर तो चुप रहे दुनिया
अगर मजलूम कुछ बोले तो दहशत गर्द कहती है

वो किस्सा ए दर्द आगीं चुप कर दिया था जिस ने
तुम से न सुना जाता मुझ से न बयाँ होता

धूप के साए में चुप साधे हुए
कर रहे हो अम्न का एलान क्या

फजा उदास है रुत मुज्महिल है मैं चुप हूँ
जो हो सके तो चला आ किसी की खातिर तू

चुप चाप सुनती रहती है पहरों शब ए फिराक
तस्वीर ए यार को है मिरी गुफ्तुगू पसंद

रोने वाले हुए चुप हिज्र की दुनिया बदली
शम्अ बे नूर हुई सुब्ह का तारा निकला

जा पड़े चुप हो के जब शहर ए खमोशाँ में नजीर
ये गजल ये रेख्ता ये ख्वानी फिर कहाँ

फजाएँ चुप हैं कुछ ऐसी कि दर्द बोलता है
बदन के शोर में किस को पुकारें क्या माँगें

ऐ जुल्म के मातो लब खोलो चुप रहने वालो चुप कब तक
कुछ हश्र तो उन से उट्ठेगा कुछ दूर तो नाले जाएँगे

मैं उस को देख के चुप था उसी की शादी में
मजा तो सारा इसी रस्म के निबाह में था

मैं चुप कराता हूँ हर शब उमडती बारिश को
मगर ये रोज गई बात छेड़ देती है

दिल पर तेरी चुप से लगने वाला दाग
ऐसा दाग है जिस को धो नहीं सकता मैं

Read More :Sukoon Shayari
Read More :Success Status
Read More :Success Shayari