धोखेबाज दोस्ती शायरी | Dhokebaaz Dost Shayari

In 10 Minutes, I’ll Give You The Truth About Dhokebaaz Dost Shayari. Improve(Increase) Your Dhokebaaz Dost Shayari In 3 Days. Who Else Wants To Enjoy Dhokebaaz Dost Shayari.

Could This Report Be The Definitive Answer To Your Dhokebaaz Dost Shayari?. 5 Secrets: How To Use Dhokebaaz Dost Shayari To Create A Successful Business(Product). Why My Dhokebaaz Dost Shayari Is Better Than Yours. Your Key To Success: Dhokebaaz Dost Shayari.Dhokebaaz Dost Shayari

Dhokebaaz Dost Shayari – So Simple Even Your Kids Can Do It. Believe In Your Dhokebaaz Dost Shayari Skills But Never Stop Improving. If You Want To Be A Winner, Change Your Dhokebaaz Dost Shayari Philosophy Now!.

 

दुश्मनों को देखा है हमने दिल से रिश्ते निभाने का हुनर दोस्तों में हमने बस दग़ाबाज़ी देखी है।

 

खुदा के सिवाय किसी से आस मत रखना, वफ़ा और दोस्ती पर कभी विशवास मत करना।

 

अब यही चाल चलन दिखती है, अब दोस्तों की बधाई में भी जलन दिखती है।

 

देख कर रूप उनका मैं दाग हो गया, हर दोस्त मेरा दुश्मनों के संग हो गया।

 

बहुत रंगीन ये ज़माना हर शख्स ने रंग दिखाया हैं, दग़ाबाज़ी करना हमे दोस्तों ने सिखाया है।

 

दोस्त ने मुझे तब काफी बातें सीखा दी जब उसने मुझे अपनी औकात दिखा दी।

 

मेरी दुकान उनकी दुकान से थोड़ी ज्यादा क्या चल गई, दोस्ती उनकी दुश्मनी में बदल गई।