Diya Shayari दिया शायरी हिंदी में (2022-23)

Diya Shayari In Hindi | दिया शायरी हिंदी में

Diya Shayari In Hindi (दिया शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Diya Shayari In Hindi | दिया शायरी हिंदी में Diya Shayari In Hindi (दिया शायरी हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Diya Shayari दिया शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Diya Shayari
जर दिया जोर दिया माल दिया गंज दिए
ऐ फलक कौन से राहत के एवज रंज दिए

एक अपना दिया जलाने को
तुम ने लाखों दिए बुझाए हैं

उस इक दिए से हुए किस कदर दिए रौशन
वो इक दिया जो कभी बाम ओ दर में तन्हा था

Diya Shayari दिया शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

दामन के दाग अश्क ए नदामत ने धो दिए
लेकिन ये दिल का दाग मिटाया न जा सका

Diya Shayari दिया शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

जुदाइयों के जख्म दर्द ए जिंदगी ने भर दिए
तुझे भी नींद आ गई मुझे भी सब्र आ गया

सरशार मैं ने इश्क के मअ नी बदल दिए
इस आशिकी में पहले न था वस्ल का चलन

इक दाग ए दिल ने मुझ को दिए बे शुमार दाग
पैदा हुए हजार चराग इस चराग से

उमीद ए वस्ल ने धोके दिए हैं इस कदर हसरत
कि उस काफिर की हाँ भी अब नहीं मालूम होती है

दुख्तर ए रज ने दिए छींटे कुछ ऐसे साकिया
पानी पानी हो गई तौबा हर इक मय ख्वार की

दाग दुनिया ने दिए जख्म जमाने से मिले
हम को तोहफे ये तुम्हें दोस्त बनाने से मिले

दुनिया ने जो जख्म दिए थे भर दिए तेरी यादों ने
यादों ने जो जख्म लगाए वो बढ़ कर नासूर हुए

दिखाई दिए यूँ कि बे खुद किया
हमें आप से भी जुदा कर चले

दिए हैं जिंदगी ने जख्म ऐसे
कि जिन का वक्त भी मरहम नहीं है

इन बुतों ने मुझ को बे खुद किस कदर धोके दिए
सीधा सादा जान कर मर्द ए मुसलमाँ देख कर

लम्स ए सदा ए साज ने जख्म निहाल कर दिए
ये तो वही हुनर है जो दस्त ए तबीब ए जाँ में था

दिए जलाए उम्मीदों ने दिल के गिर्द बहुत
किसी तरफ से न इस घर में रौशनी आई

आदतन तुम ने कर दिए वादे
आदतन हम ने ए तिबार किया

दिये अब शहर में रौशन नहीं हैं
हवा की हुक्मरानी हो गई क्या

दिल जलाओ या दिए आँखों के दरवाजे पर
वक्त से पहले तो आते नहीं आने वाले

शोखी से हर शगूफे के टुकड़े उड़ा दिए
जिस गुंचे पर निगाह पड़ी दिल बना दिया

Read More :Success Quotes
Read More :Student Status
Read More :Student Quotes