Eyes Shayari

Eyes ShayariLike An Expert. Follow These 5 Steps To Get There. What $325 Buys You In Eyes Shayari. 10 Ways to Make Your Eyes Shayari Easier.

The Pros And Cons Of Eyes Shayari. Fears of a Professional Eyes Shayari. Will Eyes Shayari Ever Die?. The Complete Process of Eyes Shayari.

10 Small Changes That Will Have A Huge Impact On Your Eyes Shayari. 3 More Cool Tools For Eyes Shayari. Questions For/About Eyes Shayari. The Hollistic Aproach To Eyes Shayari.

 Eyes Shayari

उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ,
पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे,
ईमान की तो ये है कि ईमान अब कहाँ,
काफ़िर बना गई तेरी काफ़िर-नज़र मुझे।

 

इश्क के फूल खिलते हैं तेरी खूबसूरत आँखों में,
जहाँ देखे तू एक नजर वहाँ खुशबू बिखर जाए।

 

यह मुस्कुराती हुई आँखें
जिनमें रक्स करती है बहार,
शफक की, गुल की,
बिजलियों की शोखियाँ लिये हुए।

 

उस घड़ी देखो उनका आलम
नींद से जब हों बोझल आँखें,
कौन मेरी नजर में समाये
देखी हैं मैंने तुम्हारी आँखें।

 

निगाहों से कत्ल कर दे न हो तकलीफ दोनों को,
तुझे खंजर उठाने की मुझे गर्दन झुकाने की।