Faraz Shayari फराज़ शायरी हिंदी में (2022-23)

Faraz Shayari In Hindi | फ़राज़ शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Faraz Shayari In Hindi | फ़राज़ शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Faraz Shayari
मुद्दतें हो गईं फराज मगर
वो जो दीवानगी कि थी है अभी

फराज इस तरह जिंदगी है गुजारी
कि गोया कोई हादसा छोड़ आए

बंदगी हम ने छोड़ दी है फराज
क्या करें लोग जब खुदा हो जाएँ

सब ख्वाहिशें पूरी हों फराज ऐसा नहीं है
जैसे कई अशआर मुकम्मल नहीं होते

फराज इश्क की दुनिया तो खूब सूरत थी
ये किस ने फित्ना ए हिज्र ओ विसाल रक्खा है

फराज तर्क ए तअल्लुक तो खैर क्या होगा
यही बहुत है कि कम कम मिला करो उस से

फराज तू ने उसे मुश्किलों में डाल दिया
जमाना साहब ए जर और सिर्फ शाएर तू

और फराज चाहिएँ कितनी मोहब्बतें तुझे
माओं ने तेरे नाम पर बच्चों का नाम रख दिया

फराज तेरे जुनूँ का खयाल है वर्ना
ये क्या जरूर वो सूरत सभी को प्यारी लगे

मीर के मानिंद अक्सर जीस्त करता था फराज
था तो वो दीवाना सा शाइर मगर अच्छा लगा

ऐसी तारीकियाँ आँखों में बसी हैं कि फराज
रात तो रात है हम दिन को जलाते हैं चराग

चुप चाप अपनी आग में जलते रहो फराज
दुनिया तो अर्ज ए हाल से बे आबरू करे

जिंदगी पर इस से बढ़ कर तंज क्या होगा फराज
उस का ये कहना कि तू शाएर है दीवाना नहीं

टूटा तो हूँ मगर अभी बिखरा नहीं फराज
मेरे बदन पे जैसे शिकस्तों का जाल हो

धूप की सख्ती तो थी लेकिन फराज
जिंदगी में फिर भी था साया बहुत

इस से बढ़ कर कोई इनआम ए हुनर क्या है फराज
अपने ही अहद में एक शख्स फसाना बन जाए

तुम तकल्लुफ को भी इख्लास समझते हो फराज
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला

किसी बेवफा की खातिर ये जुनूँ फराज कब तक
जो तुम्हें भुला चुका है उसे तुम भी भूल जाओ

अभी कुछ और करिश्मे गजल के देखते हैं
फराज अब जरा लहजा बदल के देखते हैं

Read More :Waqt Shayari
Read More :Waqt Status
Read More :Waqt Quotes