Fareb Shayari फरेब शायरी हिंदी में (2022-23)

Fareb Shayari In Hindi | फरेब शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Fareb Shayari In Hindi | फरेब शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Fareb Shayari
दुनिया हमें फरेब पे देती रही फरेब
हम देखते रहे निगह ए ए तिबार से

दूसरों को फरेब दे दे कर
हम ने खुद भी फरेब खाया है

शौक कितने फरेब देता है
मुस्कुरा कर हमारा नाम न ले

बड़े वसूक से दुनिया फरेब देती रही
बड़े खुलूस से हम ए तिबार करते रहे

सब से बड़ा फरेब है खुद जिंदगी अदा
इस हीला जू के साथ हैं हम भी बहाना साज

हमेशा दूर के जल्वे फरेब देते हैं
है वर्ना चाँद बयाबाँ किसी को क्या मालूम

क्या क्या फरेब दिल को दिए इज्तिराब में
उन की तरफ से आप लिखे खत जवाब में

हाए वो जिंदगी फरेब आँखें
तू ने क्या सोचा मैं ने क्या समझा

जाहिद तिरा तो दीन सरासर फरेब है
रिश्ते से तेरे सुब्हा के जुन्नार ही भला

फसाद, कत्ल, तअस्सुब, फरेब, मक्कारी
सफेद पोशों की बातें हैं क्या बताऊँ मैं

फरियाद ऐ तसव्वुर ए अबरू ए दिल फरेब
किब्ले की सम्त भूल गया हूँ नमाज में

दिल ओ नजर को अभी तक वो दे रहे हैं फरेब
तसव्वुरात ए कुहन के कदीम बुत खाने

इतने फरेब खाए हैं कुर्बत में यार की
मोहसिन फरेब और भी खाया न जाएगा

बहुत फरेब से हम वहशियों को वहशत है
हमारे दश्त में नासिख कहीं सराब नहीं

वो नशा है के जबाँ अक्ल से करती है फरेब
तू मिरी बात के मफ्हूम पे जाता है कहाँ

हर उज्व है दिल फरेब तेरा
कहिए किसे कौन सा है बेहतर

मुझी को पर्दा ए हस्ती में दे रहा है फरेब
वो हुस्न जिस को किया जल्वा आफरीं मैं ने

जिन का मक्सद फरेब होता है
वो बड़ी सादगी से मिलते हैं

तिरे वा दों पे कहाँ तक मिरा दिल फरेब खाए
कोई ऐसा कर बहाना मिरी आस टूट जाए

Read More :Whatsapp Shayari
Read More :Wedding Status
Read More :Wedding Shayari