Halat Shayari (2022-23)

Halat Shayari In Hindi | हलत शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Halat Shayari In Hindi | हलत शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Halat Shayari

जाने क्यूँ दोजख से बद तर हो गए हालात आज
रश्क ए जन्नत कल तलक हिन्दोस्ताँ मेरा भी था

हालत दिल ए बेताब की देखी नहीं जाती
बेहतर है कि हो जाए ये पैवंद जमीं का

फिर वही लम्बी दो पहरें हैं फिर वही दिल की हालत है
बाहर कितना सन्नाटा है अंदर कितनी वहशत है

दुख में सुख में हर हालत में भारत दिल का सहारा है
भारत प्यारा देश हमारा सब देशों से प्यारा है

खुदा ने आज तक उस कौम की हालत नहीं बदली
न हो जिस को खयाल आप अपनी हालत के बदलने का

दुनिया के इस इबरत खाने में हालात बदलते रहते हैं
जो लोग थे कल मशहूर ए जहाँ हैं आज वही गुमनामी में

एक हालत थी मिरी और एक हालत दिल की थी
मेरी हालत तो वही है दिल की वो हालत गई

हालात ए खूँ आशाम से गाफिल नहीं लेकिन
ऐ जुल्म तिरे हाथ पे बैअ त नहीं करते

हँस के फरमाते हैं वो देख के हालत मेरी
क्यूँ तुम आसान समझते थे मोहब्बत मेरी

दिल की हालत अगर नहीं बदली
एहतियात ए नजर से क्या होगा

जिंदगी ऐसे भी हालात बना देती है
लोग साँसों का कफन ओढ़ के मर जाते हैं

अजीब हालत है जिस्म ओ जाँ की हजार पहलू बदल रहा हूँ
वो मेरे अंदर उतर गया है मैं खुद से बाहर निकल रहा हूँ

हालात शहाब आँख उठाने नहीं देते
बच्चों को मगर ईद मनाने की पड़ी है

कोई नहीं जो पता दे दिलों की हालत का
कि सारे शहर के अखबार हैं खबर के बगैर

हालत के तगय्युर पर हो मातम ए माजी क्यूँ
इक वो भी जमाना था इक ये भी जमाना है

गैरों की शिकस्ता हालत पर हँसना तो हमारा शेवा था
लेकिन हुए हम आजुर्दा बहुत जब अपने घर की बात चली

दिल ए नादाँ तिरी हालत क्या है
तू न अपनों में न बेगानों में

दिखाने को नहीं हम मुज्तरिब हालत ही ऐसी है
मसल है रो रहे हो क्यूँ कहा सूरत ही ऐसी है

दिल की हालत से खबर देती है
असर आशुफ्ता बयानी मेरी

Read More :Behan Shayari
Read More :Behad Shayari
Read More :Bedard Shayari