Hamdard Shayari (2022-23)

Hamdard Shayari In Hindi | हमदर्द शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Hamdard Shayari In Hindi | हमदर्द शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Hamdard Shayari

कोई हमदर्द न हमदम न यगाना अपना
रू ब रू किस के कहें हम ये फसाना अपना

कहते हो कि हमदर्द किसी का नहीं सुनते
मैं ने तो रकीबों से सुना और ही कुछ है

अदम से हस्ती में जब हम आए न कोई हमदर्द साथ लाए
जो अपने थे वो हुए पराए अब आसरा है तो बेकसी का

न कोहकन है न मजनूँ कि थे मिरे हमदर्द
मैं अपना दर्द ए मोहब्बत कहूँ तो किस से कहूँ

मैं आ कर दुश्मनों में बस गया हूँ
यहाँ हमदर्द हैं दो चार मेरे

Read More :Believe Shayari
Read More :Behtareen Shayari
Read More :Beiman Shayari