हौसला शायरी | Hausla Shayari

Hausla Shayari | हौसला शायरी

Hausla Shayari In Hindi | हौसला शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Hausla Shayari In Hindi | हौसला शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Hausla Shayari
जिंदगी को हौसला देने के खातिर
ख्वाहिशों को रेजा रेजा चुन रहा हूँ

हिज्र को हौसला और वस्ल को फुर्सत दरकार
इक मोहब्बत के लिए एक जवानी कम है

ये भी खुद को हौसला देने का हीला है कि मैं
उँगलियों से लिख रहा हूँ चार सू ला तक्नतू

हौसला किस में है यूसुफ की खरीदारी का
अब तो महँगाई के चर्चे हैं जुलेखाओं में

चलने का हौसला नहीं रुकना मुहाल कर दिया
इश्क के इस सफर ने तो मुझ को निढाल कर दिया

ये हौसला भी किसी रोज कर के देखूँगी
अगर मैं जख्म हूँ उस का तो भर के देखूँगी

रुक जा हुजूम ए गुल कि अभी हौसला नहीं
दिल से खयाल ए तंगी ए दामाँ गया नहीं

बुरा मत मान इतना हौसला अच्छा नहीं लगता
ये उठते बैठते जिक्र ए वफा अच्छा नहीं लगता

हवा के साथ सफर का न हौसला था जिसे
सभी को खौफ उसी लम्हा ए शरर से था

नहीं मैं हौसला तो कर रहा था
जरा तेरे सुकूँ से डर रहा था

हौसला है तो सफीनों के अलम लहराओ
बहते दरिया तो चलेंगे इसी रफ्तार के साथ

ये और बात कि कम हौसला तो मैं भी थी
मगर ये सच है उसे पहले मैं ने चाहा था

थी हौसले की बात जमाने में जिंदगी
कदमों का फासला भी यहाँ एक जस्त था

ऐ मोहब्बत मुझ को ऐसा हौसला खैरात कर
उस को बाजू से पकड़ कर कह सकूँ कि बात कर

ये तो अपना अपना है हौसला ये तो अपनी अपनी उड़ान है
कोई उड़ के रह गया बाम तक कोई कहकशाँ से गुजर गया

Read More :Chalaki Shayari
Read More :Chai Shayari
Read More :Chahte Shayari