Hoth Shayari होठ शायरी हिंदी में (2022-23)

Hoth Shayari In Hindi | होठ शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Hoth Shayari In Hindi | होठ शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Hoth Shayari
शुस्ता जबाँ शगुफ्ता बयाँ होंठ गुल फिशाँ
सारी हैं तुझ में खूबियाँ उर्दू जबान की

होंठों में दाब कर जो गिलौरी दी यार ने
क्या दाँत पीसे गैरों ने क्या क्या चबाए होंठ

जेहन मुसलसल किस्से सोचें होंठ मुसलसल जिक्र करें
सुब्ह तलक जिंदा रहना है कहीं कहानी कम न पड़े

मजे में अब तलक बैठा मैं अपने होंठ चाटूँ हूँ
लिया था ख्वाब में बोसा जो यक शब सेब ए गबगब का

ख्वाब में बोसा लिया था रात ब लब ए नाजकी
सुब्ह दम देखा तो उस के होंठ पे बुतखाला था

एक बोसे के भी नसीब न हों
होंठ इतने भी अब गरीब न हों

क्या सुन चुके हैं आमद ए फस्ल ए बहार हाथ
जाते हैं सू ए जेब जो बे इख्तियार हाथ

Read More :Dhamki Shayari
Read More :Dharti Shayari
Read More :Dhadkan Shayari