Hurt Shayari | हर्ट शायरी 436+

Now You Can Buy An App That is Really Made For Hurt Shayari. 7 Ways To Keep Your Hurt Shayari Growing Without Burning The Midnight Oil. Succeed With Hurt Shayari In 24 Hours.

The Hidden Mystery Behind Hurt Shayari. Hurt Shayari Smackdown!. Want To Step Up Your Hurt Shayari? You Need To Read This First. Fascinating Hurt Shayari Tactics That Can Help Your Business Grow.

How To Lose Money With Hurt Shayari. Get Rid of Hurt Shayari For Good. 15 Lessons About Hurt Shayari You Need To Learn To Succeed.Hurt Shayari

 

कुरेद-कुरेद कर बड़े जतन से हमने रखे हैं हरे,
कौन चाहता है कि उनका दिया कोई ज़ख्म भरे।

 

एहसान किसी का वो रखते नहीं मेरा भी चुका दिया,
जितना खाया था नमक मेरा मेरे जख्मों पे लगा दिया।

 

तू भी औरों की तरह मुझसे किनारा कर ले,
सारी दुनिया से बुरा हूँ तेरे काम का नहीं।

 

दिए हैं ज़ख़्म तो मरहम का तकल्लुफ न करो,
कुछ तो रहने दो मेरी ज़ात पे एहसान अपना।

 

तरस गए हैं थोड़ी सी वफ़ा के लिए,
किसी से प्यार न करेंगे खुदा के लिए,
जब भी लगती है इश्क की अदालत,
हम ही चुने जाते हैं सजा के लिए।