Kadam Shayari | क़दम शायरी 585+

Don’t Get Too Excited. You May Not Be Done With Kadam Shayari. It’ Hard Enough To Do Push Ups – It’s Even Harder To Do Kadam Shayari.

The Anatomy Of Kadam Shayari. Watch Them Completely Ignoring Kadam Shayari And Learn The Lesson. Kadam Shayari Tip: Make Yourself Available. Here’s a 2 Minute Video That’ll Make You Rethink Your Kadam Shayari Strategy.

The Real Story Behind Kadam Shayari. 8 Things About Kadam Shayari That You Want… Badly. Kadam Shayari: Are You Prepared For A Good Thing?. Kadam Shayari For Business: The Rules Are Made To Be Broken.

 Kadam Shayari

कदम भर चले ही थे, कि थकान महसूस होने लगी..
मंजिल पहुँचने की जल्दी में सफर को भूलने लगे !!

 

कदम कदम चोपड़ बिछी कदम कदम पर जाल
अम्मा क्यों सिखला दिया चलना सीधी चाल।।

 

कोन कहता है, कामियाबी हासिल नहीं होती।
एक बार ‘ मा ‘ के क़दमों को छू के तो देखो..
कमियाबी को अपने पास पाओगे..

 

तुम हो मेरे ये दिन रात कहते हो ।
दो कदम चलकर जिंदगी भर का साथ कहते हो

 

हमने बहुत कदम बढ़ाये चाँद को छूने और पर्वतों को लांघने की ओर ,
आओ दो कदम उठाए हम मानव मानवता की ओर ।