Kanjus Shayari कंजूस शायरी हिंदी में (2022-23)

Kanjus Shayari In Hindi | कंजूस शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Kanjus Shayari In Hindi | कंजूस शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Kanjus Shayari
बस्ती में बट रही थी हँसी भी हिसाब से
शश्दर खड़ा है सोचता कंजूस आज तक

बहुत कंजूस हैं आँखें मिरी आँसू बहाने में
अगरचे दौलत ए गम की फरावानी नहीं जाती

ख्वाब के सिक्के कितने कम हैं कासे में
नींद को किस ने इस हद तक कंजूस किया

क्यूँ न सहरा को निचोड़ूँ कि मिरी प्यास बुझे
देगा इक कतरा न कंजूस समुंदर मुझ को

Read More :Khawab Shayari
Read More :Khatam Shayari
Read More :Khatrnak Shayari