Khayal Shayari खयाल शायरी हिंदी में (2022-23)

Khayal Shayari In Hindi | ख्याल शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Khayal Shayari In Hindi | ख्याल शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Khayal Shayari

दिल किसी बज्म में जाते ही मचलता है खयाल
सो तबीअत कहीं बे जार नहीं भी होती

शब ए फिराक की तन्हाइयों में तेरा खयाल
मिरे वजूद से करता रहा जुदा मुझ को

है खयाल ए हुस्न में हुस्न ए अमल का सा खयाल
खुल्द का इक दर है मेरी गोर के अंदर खुला

किसी खयाल का कोई वजूद हो शायद
बदल रहा हूँ मैं ख्वाबों को तजरबा कर के

अच्छे ईसा हो मरीजों का खयाल अच्छा है
हम मरे जाते हैं तुम कहते हो हाल अच्छा है

उतार लफ्जों का इक जखीरा गजल को ताजा खयाल दे दे
खुद अपनी शोहरत पे रश्क आए सुखन में ऐसा कमाल दे दे

किस की आशुफ्ता मिजाजी का खयाल आया है
आप हैरान परेशान कहाँ जाते हैं

तिरे खयाल से रौशन है सर जमीन ए सुखन
कि जैसे जीनत ए शब हो मह ए तमाम के साथ

इसी खयाल में हर शाम ए इंतिजार कटी
वो आ रहे हैं वो आए वो आए जाते हैं

दिल से मिटना तिरी अंगुश्त ए हिनाई का खयाल
हो गया गोश्त से नाखुन का जुदा हो जाना

हजार तर्क ए वफा का खयाल हो लेकिन
जो रू ब रू हों तो बढ़ कर गले लगा लेना

 

वो दे रहा था तलब से सिवा सभी को खयाल

सो मैं ने दामन ए दिल और कुछ कुशादा किया

था कफस का खयाल दामन गीर
उड़ सके हम न बाल ओ पर ले कर

देखा हिलाल ए ईद तो आया तेरा खयाल
वो आसमाँ का चाँद है तू मेरा चाँद है

खयाल उस सफ ए मिज्गाँ का दिल में आएगा
हमारे मुल्क में भरती सिपाह की होगी

इश्क में ख्वाब का खयाल किसे
न लगी आँख जब से आँख लगी

यूँ गुजरता है तिरी याद की वादी में खयाल
खारजारों में कोई बरहना पा हो जैसे

तेरे खयाल के दीवार ओ दर बनाते हैं
हम अपने घर में भी तेरा ही घर बनाते हैं

Read More :Muskurana Shayari
Read More :Musibat Shayari
Read More :Musafir Shayari