Khudgarz Shayari खुदगर्ज शायरी हिंदी में (2022-23)

Khudgarz Shayari In Hindi | खुदगर्ज शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Khudgarz Shayari In Hindi | खुदगर्ज शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Khudgarz Shayari

मुझ को न दिल पसंद न वो बेवफा पसंद
दोनों हैं खुदगर्ज मुझे दोनों हैं ना पसंद

मिरा इश्क भी खुदगर्ज हो चला है
तिरे हुस्न को बेवफा कहते कहते

किसे खबर थी कि ये दौर ए खुदगर्ज इक दिन
जुनूँ से कीमत ए दार ओ रसन छुपाएगा

Read More :Patang Shayari
Read More :Pareshani Shayari
Read More :Pareshan Shayari