Khushnuma Shayari खुशनुमा शायरी हिंदी में (2022-23)

Khushnuma Shayari In Hindi | खुशनुमा शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Khushnuma Shayari In Hindi | खुशनुमा शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Khushnuma Shayari खुशनुमा शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Khushnuma Shayari
याद के खुशनुमा जजीरों में
दिल की आवारगी सी रहती है

खुशनुमा मंजर भी सब धुंधले नजर आते हैं यार
जब दिलों में भी उतर जाती है सहराओं की खाक

ये नक्श ए खुशनुमा दर अस्ल नक्श ए आजिजी है
कि अस्ल ए हुस्न तो अंदेशा ए बहजाद में है

Khushnuma Shayari खुशनुमा शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

बाग ए हवस में कुछ नहीं दिल है तो खुशनुमा है दिल
आग लगाएगी तलब होगा ये खस तबाह कुन

Khushnuma Shayari खुशनुमा शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

खुशनुमा दाएरे बनते ही चले जाते हैं
दिल के तालाब में फेंका है ये कंकर किस ने

खुश नुमा लफ्जों की रिश्वत दे के राजी कीजिए
रूह की तौहीन पर आमादा रहता है बदन

तिरा हर उज्व प्यारे खुश नुमा है उज्व ए दीगर सीं
मिजा सीं खूब तर अबरू ओ अबरू सीं भली अँखियाँ

मल्बूस खुश नुमा हैं मगर जिस्म खोखले
छिलके सजे हों जैसे फलों की दुकान पर

फबा है रुख पे तिरे खुश नुमा सनम लेकिन
हमेशा गुल पे ये शबनम रहे रहे न रहे

हम को भी खुश नुमा नजर आई है जिंदगी
जैसे सराब दूर से दरिया दिखाई दे

दिल का मौसम जर्द हो तो कुछ भला लगता नहीं
कोई मंजर कोई चेहरा खुशनुमा लगता नहीं

शराब ओ साकी ए मह रू जो साथ हों बेदार
तो खुश नुमा है शब ए माहताब में दरिया

Read More :Raaz Shayari
Read More :Raat Shayari
Read More :Raaste Shayari