Kutta Shayari कुत्ता शायरी (2022-23)

Kutta Shayari In Hindi | कुत्ता शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Kutta Shayari In Hindi | कुत्ता शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Kutta Shayari कुत्ता शायरी (2022-23) In Hindi

Kutta Shayari
मिल मालिक के कुत्ते भी चर्बीले हैं
लेकिन मजदूरों के चेहरे पीले हैं

कटती किसी तरह से नहीं ये शब ए फिराक
शायद कि गर्दिश आज तुझे आसमाँ नहीं

कटती है आरजू के सहारे पे जिंदगी
कैसे कहूँ किसी की तमन्ना न चाहिए

Kutta Shayari कुत्ता शायरी (2022-23) हिंदी में

जाने किस किस का गला कटता पस ए पर्दा ए इश्क
खुल गए मेरी शहादत में सितमगर कितने

Kutta Shayari कुत्ता शायरी (2022-23) 2 line

कटती है शब विसाल की पलकें झपकते ही
जिस की सुब्ह न हो कभी वो रात भी तो हो

कटता हूँ मैं भी वो कि मिरी जिंस ए दिल को देख
गाहक जो रीझ जाए तो कीमत फुजूँ करूँ

घूमते कटता है कूचे में तिरे दिन का दिन
बैठे कट जाती है चौखट पे तिरी रात की रात

एक इक साँस में सदियों का सफर काटते हैं
खौफ के शहर में रहते हैं सो डर काटते हैं

रोता हूँ तो सैलाब से कटती हैं जमीनें
हँसता हूँ तो ढह जाते हैं कोहसार मिरी जाँ

बात पर वाँ जबान कटती है
वो कहें और सुना करे कोई

कटते किसी तरह से नहीं हाए क्या करूँ
दिन हो गए पहाड़ मुझे इंतिजार के

कटता कहाँ तवील था रातों का सिलसिला
सूरज मिरी निगाह की सच्चाइयों में था

घर के दुखड़े शहर के गम और देस बिदेस की चिंताएँ
इन में कुछ आवारा कुत्ते हैं कुछ हम ने पाले हैं

एक करवट पे रात क्या कटती
हम ने ईजाद की नई दुनिया

रास्ता है कि कटता जाता है
फासला है कि कम नहीं होता

ये काटे से नहीं कटते ये बाँटे से नहीं बटते
नदी के पानियों के सामने आरी कटारी क्या

रात काटे नहीं कटती है किसी सूरत से
दिन तो दुनिया के बखेड़ों में गुजर जाता है

Read More :Sagar Shayari
Read More :Sahab Shayari
Read More :Safar Shayari