Madad Shayari मदद शायरी हिंदी में (2022-23)

Madad Shayari In Hindi | मदद शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Madad Shayari In Hindi | मदद शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Madad Shayari
अल मदद ऐ जज्बा ए जौक ए मोहब्बत अल मदद
इश्क ने आवाज दी बे इख्तियाराना मुझे

फर्ज है दरिया दिलों पर खाकसारों की मदद
फर्श सहरा के लिए लाजिम हुआ सैलाब का

नैरंग ए इश्क आज तो हो जाए कुछ मदद
पुर फन को हम करें मुतहय्यर किसी तरह

हम चरागों की मदद करते रहे
और उधर सूरज बुझा डाला गया

हर बार मदद के लिए औरों को पुकारा
या काम लिया नारा ए तकबीर से हम ने

हमारे ऐब में जिस से मदद मिले हम को
हमें है आज कल ऐसे किसी हुनर की तलाश

ओ अतारिद जुहल ए नहिस से टुक माँग मिदाद
बख्त का माजरा लिखता हूँ सियाही देना

न कुछ सितम से तिरे आह आह करता हूँ
मैं अपने दिल की मदद गाह गाह करता हूँ

कुछ न कहने से भी छिन जाता है एजाज ए सुखन
जुल्म सहने से भी जालिम की मदद होती है

तदबीर के दस्त ए रंगीं से तकदीर दरख्शाँ होती है
कुदरत भी मदद फरमाती है जब कोशिश ए इंसाँ होती है

समुंदरों को भी हैरत हुई कि डूबते वक्त
किसी को हम ने मदद के लिए पुकारा नहीं

किसी को कैसे बताएँ जरूरतें अपनी
मदद मिले न मिले आबरू तो जाती है

है मुद्दआ ए इश्क ही दुनिया ए मुद्दआ
ये मुद्दआ न हो तो कोई मुद्दआ न हो

चर्ख को मद्द ए नजर है खींचना पूरी शबीह
माह ए नौ तो सिर्फ खाका है तिरी तस्वीर का

खुश आमदीद वो आया हमारी चौखट पर
बहार जिस के कदम का तवाफ करती है

कोई समझाए मिरे मद्दाह को
तालियों से भी बिखर सकता हूँ मैं

मंजिल ए मर्ग के आ पहुँचे हैं नजदीक अब तो
कर मदद ऐ नफस ए बाज पसीं थोड़ी सी

Read More :Uljhan Shayari
Read More :Udhar Shayari
Read More :Ulfat Shayari