Majak Shayari मजाक शायरी हिंदी में (2022-23)

Majak Shayari In Hindi | मजाक शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Majak Shayari In Hindi | मजाक शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Majak Shayari मजाक शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Majak Shayari
इश्क है इश्क ये मजाक नहीं
चंद लम्हों में फैसला न करो

ये राह ए इश्क है आखिर कोई मजाक नहीं
सऊबतों से जो घबरा गए हों घर जाएँ

जो दूर रह के उड़ाता रहा मजाक मिरा
करीब आया तो रोया गले लगा के मुझे

Majak Shayari मजाक शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

याँ तक रहे जुदा कि हमारे मजाक में
आखिर कि जहर ए हिज्र भी तिरयाक हो गया

Majak Shayari मजाक शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

फिर इस मजाक को जम्हूरियत का नाम दिया
हमें डराने लगे वो हमारी ताकत से

क्या खबर जिस का यहाँ इतना उड़ाते हैं मजाक
खुद हमें भी कभी इस रंग में ढलना पड़ जाए

उस का मिलना कोई मजाक है क्या
बस खयालों में जी उठा हूँ मैं

अजब मजाक उस का था कि सर से पाँव तक मुझे
वफाओं से भिगो दिया नदामतों की सोच में

जिंस ए हुनर मजाक ए खरीदार देख कर
खुद बे नियाज चश्म ए खरीदार हो गई

इश्क की फितरत ने यूँ बदला मजाक ए जिंदगी
जितने गम बढ़ने लगे उतनी खुशी होने लगी

अभी तो तन्कीद हो रही है मिरे मजाक ए जुनूँ पे लेकिन
तुम्हारी जुल्फों की बरहमी का सवाल आया तो क्या करोगे

वो मजाक ए इश्क ही क्या कि जो एक ही तरफ हो
मिरी जाँ मजा तो जब है कि तुझे भी कल न आए

हवा का रंग नहीं है मगर मिजाज तो है
हवा से दोस्ती करना कोई मजाक नहीं

रानाई ए खयाल को ठहरा दिया गुनाह
वाइज भी किस कदर है मजाक ए सुखन से दूर

अब भी खुदा परस्त है दैर ओ हरम की कैद में
हाए निगाह ए ना रसा हाए मजाक ए ना तमाम

शराफतों के रंग में शरारतें खलत मलत
सर ए मजाक हो गईं हिमाकतें खलत मलत

खुशी से फूलें न अहल ए सहरा अभी कहाँ से बहार आई
अभी तो पहुँचा है आबलों तक मिरा मजाक ए बरहना पाई

जिंदगी से मिले हुए हो तुम
वो भी मुझ से मजाक करती है

Read More :Zamana Shayari
Read More :Zid Shayari
Read More :Zalima Shayari