Milan Shayari मिलन शायरी हिंदी में (2022-23)

Milan Shayari In Hindi | मिलन शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Milan Shayari In Hindi | मिलन शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Milan Shayari मिलन शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Milan Shayari
मिलन के ब अद आती है जुदाई
नरक भी स्वर्ग से कितना निकट है

मेहर ओ वफा खुलूस ए तमन्ना मिलन की आस
कुछ कम नहीं कि हम ने ये मोती बचा लिए

ये रास रंग ये मेल मिलन इक हाथ में चाँद इक में सूरज
इक रात का मौज मजा सारा इक दिन का सैर सपाटा है

Milan Shayari मिलन शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

दिलों का जिक्र ही क्या है मिलें मिलें न मिलें
नजर मिलाओ नजर से नजर की बात करो

Milan Shayari मिलन शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख्वाबों में मिलें
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें

इस शहर में किस से मिलें हम से तो छूटीं महफिलें
हर शख्स तेरा नाम ले हर शख्स दीवाना तिरा

हम मिलें या न मिलें फिर भी कभी ख्वाबों में
मुस्कुराती हुई आएँगी हमारी बातें

लोग सह लेते थे हँस कर कभी बे जारी भी
अब तो मश्कूक हुई अपनी मिलन सारी भी

ईद को भी वो नहीं मिलते हैं मुझ से न मिलें
इक बरस दिन की मुलाकात है ये भी न सही

अब कहाँ दोस्त मिलें साथ निभाने वाले
सब ने सीखे हैं अब आदाब जमाने वाले

मंजिलों पर हम मिलें ये तय हुआ
वापसी में साथ पक्का कर लिया

तुम्हें जब कभी मिलें फुर्सतें मिरे दिल से बोझ उतार दो
मैं बहुत दिनों से उदास हूँ मुझे कोई शाम उधार दो

किस तरह मिलें कोई बहाना नहीं मिलता
हम जा नहीं सकते उन्हें आना नहीं मिलता

न चाहो तुम तो हर इक गाम कितनी दीवारें
जो चाहो तुम तो मिलन की हजार सूरत है

अब क्या मिलें किसी से कहाँ जाएँ हम निजाम
हम वो नहीं रहे वो मोहब्बत नहीं रही

सवाल ये है कि आपस में हम मिलें कैसे
हमेशा साथ तो चलते हैं दो किनारे भी

किसी का मिलना, बिछड़ना और एक दो बातें
तमाम सिलसिला जेब ए कलम न कर पाया

फकत मिलना मिलाना कम हुआ है
हमारी दोस्ती टूटी नहीं है

Read Also:Dimag Shayari 
Read Also:Junoon Shayari 
Read Also:Kafan Shayari