Mubarak Shayari मुबारक शायरी हिंदी में (2022-23)

Mubarak Shayari In Hindi | मुबारक शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Mubarak Shayari In Hindi | मुबारक शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Mubarak Shayari

दिल में आने के मुबारक हैं हजारों रस्ते
हम बताएँ उसे राहें कोई हम से पूछे

कल तो देखा था मुबारक बुत कदे में आप को
आज हजरत जा के मस्जिद में मुसलमाँ हो गए

ये गम कदा है इस में मुबारक खुशी कहाँ
गम को खुशी बना कोई पहलू निकाल के

बेश ओ कम का शिकवा साकी से मुबारक कुफ्र था
दौर में सब के ब कद्र ए जर्फ पैमाना रहा

गैर को शर्बत ए दीदार मुबारक तेरा
अब तो पानी भी पिएगा न तिरे घर का कोई

ये तसर्रुफ है मुबारक दाग का
क्या से क्या उर्दू जबाँ होती गई

जाहिदा जोहद ओ रियाजत हो मुबारक तुझ को
क्यूँ कि तक्वा से मियाँ मेरी तो बहबूद नहीं

फरिश्ता है तो तकद्दुस तुझे मुबारक हो
हम आदमी हैं तो ऐब ओ हुनर भी रखते हैं

अहल ए गम तुम को मुबारक हो फना आमादगी
लेकिन ईसार ए मोहब्बत जान दे देना नहीं

आज यारों को मुबारक हो कि सुब्ह ए ईद है
राग है मय है चमन है दिलरुबा है दीद है

वली अहदी में शाही हो मुबारक
इनायात ए इलाही हो मुबारक

मुबारक दैर ओ का बा हों कलक शैख ओ बरहमन को
बिछाएँगे मुसल्ला चल के हम मेहराब ए अबरू में

ऐ खिरद मंदो मुबारक हो तुम्हें फर्जानगी
हम हों और सहरा हो और हैरत हो और दीवानगी

फिर न दरमाँ का कभी नाम मुबारक लेना
कुफ्र है दर्द ए मोहब्बत का मुदावा करना

बिस्मिल बुतों का इश्क मुबारक तुम्हें मगर
इतने निडर न हो कि खुदा का भी डर न हो

मुबारक मुबारक नया साल आया
खुशी का समाँ सारी दुनिया पे छाया

भुलाना हमारा मुबारक मुबारक
मगर शर्त ये है न याद आईएगा

Read Also:Hak Shayari 
Read Also:Nazakat Shayari 
Read Also:Galatfahmi Shayari