Muhabbat Shayari मुहब्बत शायरी हिंदी में (2022-23)

Muhabbat Shayari In Hindi | मुहब्बत शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Muhabbat Shayari In Hindi | मुहब्बत शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Muhabbat Shayari
मोहब्बत और माइल जल्द बाजी क्या कयामत है
सुकून ए दिल बनेगा इज्तिराब आहिस्ता आहिस्ता

किस दर्जा दिल शिकन थे मोहब्बत के हादसे
हम जिंदगी में फिर कोई अरमाँ न कर सके

कितने शोरीदा सर मुहब्बत में
हो गए कूचा ए सनम की खाक

मोहब्बत के मरीजों का मुदावा है जरा मुश्किल
उतरता है सदा उन का बुखार आहिस्ता आहिस्ता

खींच देता मैं जमाने पे मोहब्बत के नुकूश
मेरे कब्जे में अगर खामा ए शहपर होता

ख्वाहिश ए सूद थी सौदे में मुहब्बत के वले
सर ब सर इस में जियाँ था मुझे मालूम न था

जहर है मेरे रग ओ पै में मोहब्बत शायद
अपने ही डंक से बिच्छू की तरह मर जाऊँ

मोहब्बत बद गुमाँ हो जाए तो जिंदा नहीं रहती
असर दिल पर तुम्हारी बे रुखी से कुछ नहीं होता

बाद ए नफरत फिर मोहब्बत को जबाँ दरकार है
फिर अजीज ए जाँ वही उर्दू जबाँ होने लगी

जमीन ए दिल पे मोहब्बत की आब यारी को
बहुत ही टूट के बरसी घटा उदासी की

शायद इसी का नाम मुहब्बत है शेफ्ता
इक आग सी है सीने के अंदर लगी हुई

दिल ओ नजर की बका है फकत मोहब्बत में
दिल ओ नजर से कोई और काम मत लेना

मोहब्बत नेक ओ बद को सोचने दे गैर मुमकिन है
बढ़ी जब बे खुदी फिर कौन डरता है गुनाहों से

मोहब्बत अदावत वफा बे रुखी
किराए के घर थे बदलते रहे

मोहब्बत रही चार दिन जिंदगी में
रहा चार दिन का असर जिंदगी भर

आगाज ए मोहब्बत से अंजाम ए मोहब्बत तक
गुजरा है जो कुछ हम पर तुम ने भी सुना होगा

Read Also:Kashmakash Shayari 
Read Also:Katl Shayari 
Read Also:Matlab Shayari