Musafir Shayari मुसाफिर शायरी हिंदी में (2022-23)

Musafir Shayari In Hindi | मुसाफिर शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Musafir Shayari In Hindi | मुसाफिर शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Musafir Shayari मुसाफिर शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Musafir Shayari
मुसाफिर ही मुसाफिर हर तरफ हैं
मगर हर शख्स तन्हा जा रहा है

मुसाफिर हैं हम भी मुसाफिर हो तुम भी
किसी मोड़ पर फिर मुलाकात होगी

होता है मुसाफिर को दो राहे में तवक्कुफ
रह एक है उठ जाए जो शक दैर ओ हरम का

Musafir Shayari मुसाफिर शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

हर शय मुसाफिर हर चीज राही
क्या चाँद तारे क्या मुर्ग ओ माही

Musafir Shayari मुसाफिर शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

जम्अ हैं सारे मुसाफिर ना खुदा ए दिल के पास
कश्ती ए हस्ती नजर आती है अब साहिल के पास

कोई मंजिल नहीं बाकी है मुसाफिर के लिए
अब कहीं और नहीं जाएगा घर जाएगा

बदन सराए में ठहरा हुआ मुसाफिर हूँ
चुका रहा हूँ किराया मैं चंद साँसों का

एक बे चेहरा मुसाफिर रंग ओढ़े
धुँद में चलते हुए देखा गया है

राह का शजर हूँ मैं और इक मुसाफिर तू
दे कोई दुआ मुझ को ले कोई दुआ मुझ से

सफर है शर्त मुसाफिर नवाज बहुतेरे
हजार हा शजर ए साया दार राह में है

हम से पहले भी मुसाफिर कई गुजरे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

वो रात का बे नवा मुसाफिर वो तेरा शाइर वो तेरा नासिर
तिरी गली तक तो हम ने देखा था फिर न जाने किधर गया वो

सुस्त रौ मुसाफिर की किस्मतों पे क्या रोना
तेज चलने वाला भी दश्त ए बे अमाँ में है

यूँ हिरासाँ हैं मुसाफिर बस्तियों के दरमियाँ
हो गई हो शाम जैसे जंगलों के दरमियाँ

कुछ ऐसे कम नजर भी मुसाफिर हमें मिले
जो साया ढूँडते हैं शजर काटने के बा द

सभी मुसाफिर चलें अगर एक रुख तो क्या है मजा सफर का
तुम अपने इम्काँ तलाश कर लो मुझे परिंदे पुकारते हैं

मुसाफिर चलते चलते थक गए मंजिल नहीं मिलती
कदम के साथ बढ़ता जा रहा हो फासला जैसे

फिर रेत के दरिया पे कोई प्यासा मुसाफिर
लिखता है वही एक कहानी कई दिन से

जो मुसाफिर भी तिरे कूचे से गुजरा होगा
अपनी नजरों को भी दीवार समझता होगा

मुसाफिर अपनी मंजिल पर पहुँच कर चैन पाते हैं
वो मौजें सर पटकती हैं जिन्हें साहिल नहीं मिलता

Read Also:Bebasi Shayari 
Read Also:Badnami Shayari 
Read Also:Masumiyat Shayari