नसीब शायरी | Nasib Shayari

Nasib Shayari | नसीब शायरी

Nasib Shayari In Hindi | नसीब शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Nasib Shayari In Hindi | नसीब शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Nasib Shayari
देखो न जात पात न नाम ओ नसब शिफा
पर दोस्त जब बनाओ तो किरदार देख कर

कहाँ के नाम ओ नसब इल्म क्या फजीलत क्या
जहान ए रिज्क में तौकीर ए अहल ए हाजत क्या

मम्नून हूँ जहाँ के नशेब ओ फराज का
अक्सर बिगड़ के खुद मिरी हालत सँभल गई

शोरीदगी को हैं सभी आसूदगी नसीब
वो शहर में है क्या जो बयाबान में नहीं

मुद्दत में शाम ए वस्ल हुई है मुझे नसीब
दो चार साल तक तो इलाही सहर न हो

जरूर होगी हमें भी नसीब लज्जत ए संग
जुनून है तो उसे मो तबर किया जाए

इस जिंदगी में इतनी फरागत किसे नसीब
इतना न याद आ कि तुझे भूल जाएँ हम

मुझ सा आशिक आप सा माशूक तब होवे नसीब
जब खुदा इक दूसरा अर्ज ओ समा पैदा करे

नसीब उस के शराब ए बहिश्त होवे मुदाम
हुआ है जो कोई मूजिद शराब खाने का

हो कभी तो शराब ए वस्ल नसीब
पिए जाऊँ मैं खून ही कब तक

सफर की शाम सितारा नसीब का जागा
फिर आसमान ए मोहब्बत पे इक हिलाल खिला

नसीब होंगी उसे कामयाबियाँ नजमी
खुशी के साथ जो हर इम्तिहाँ से गुजरेगा

सूरज से उस का नाम ओ नसब पूछता था मैं
उतरा नहीं है रात का नश्शा अभी तलक

खुदा की देन है जिस को नसीब हो जाए
हर एक दिल को गम ए जावेदाँ नहीं मिलता

मुझे भी हक है मिटा दूँ नसीब की स्याही
मैं अपने हिस्से की खुशियाँ किसी पे वारूँ क्यों

Read Also:Nigah Shayari 
Read Also:Hamdardi Shayari 
Read Also:Dooriya Shayari