Nazron Shayari नजरों शायरी हिंदी में (2022-23)

Nazron Shayari In Hindi | नज़रों शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Nazron Shayari In Hindi | नज़रों शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Nazron Shayari नजरों शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Nazron Shayari
दिल से दिल नजरों से नजरों के उलझने का समाँ
जैसे सहराओं में नींद आई हो दीवानों को

वक्त के कद्र दाँ की नजरों में
जिंदगी मुख्तसर नहीं होती

तिरछी नजरों से न देखो आशिक ए दिल गीर को
कैसे तीर अंदाज हो सीधा तो कर लो तीर को

Nazron Shayari नजरों शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

जिंदगी मुझ को मिरी नजरों में शर्मिंदा न कर
मर चुका है जो बहुत पहले उसे जिंदा न कर

Nazron Shayari नजरों शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

हजारों पैकर ए उम्मीद नजरों से हुए ओझल
जो कुछ बाकी रहे थे वो भी पिन्हाँ होते जाते हैं

इस कदर टूट कर मेरी नजरों में न देखो वर्ना
तुम्हारी नजरों को मेरी नजरों की नजर न लग जाए

पहली बार नजरों ने चाँद बोलते देखा
हम जवाब क्या देते खो गए सवालों में

नजरों की तशफ्फी का भी कर दे कोई सामाँ
दिल के तो बहलने को तिरा नाम बहुत है

नजरों से नापता है समुंदर की वुसअतें
साहिल पे इक शख्स अकेला खड़ा हुआ

उसे पाक नजरों से चूमना भी इबादतों में शुमार है
कोई फूल लाख करीब हो कभी मैं ने उस को छुआ नहीं

अब तो जो शय है मिरी नजरों में है ना पाएदार
याद आया मैं कि गम को जावेदाँ समझा था मैं

नजरों के सिलसिले थे रिश्ता कोई न था
किस से करें शिकायत अपना कोई न था

सब की नजरों में हो साकी ये जरूरी है मगर
सब पे साकी की नजर हो ये जरूरी तो नहीं

शाम तक सुब्ह की नजरों से उतर जाते हैं
इतने समझौतों पे जीते हैं कि मर जाते हैं

गैर की नजरों से बच कर सब की मर्जी के खिलाफ
वो तिरा चोरी छुपे रातों को आना याद है

नजरों में हुस्न दिल में तुम्हारा खयाल है
इतने करीब हो कि तसव्वुर मुहाल है

Read Also:Yakeen Shayari 
Read Also:Faltu Shayari 
Read Also:Chaand Shayari