Paradesi Shayari परदेशी शायरी हिंदी में (2022-23)

Paradesi Shayari In Hindi | परदेसी शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Paradesi Shayari In Hindi | परदेसी शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Paradesi Shayari परदेशी शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Paradesi Shayari
जिंदगी कम पढ़े परदेसी का खत है इबरत
ये किसी तरह पढ़ा जाए न समझा जाए

लोगो! हम परदेसी हो कर जाने क्या क्या खो बैठे
अपने कूचे भी लगते हैं बेगाने बेगाने से

होश वाले तो उलझते ही रहे
रास्ते तय हुए दीवानों से

Paradesi Shayari परदेशी शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

किसी की बाजी कैसी घात
वक्त का पाँसा वक्त की बात

Paradesi Shayari परदेशी शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

हुस्न ए इख्लास ही नहीं वर्ना
आदमी आदमी तो आज भी है

तुम ही अब वो नहीं रहे वर्ना
वही आलम वही खुदाई है

वो आँखें जो अब अजनबी हो गई हैं
बहुत दूर तक उन में पाया गया हूँ

उस की हँसी तुम क्या समझो
वो जो पहरों रोया है

शरीक ए दर्द नहीं जब कोई तो ऐ शौकत
खुद अपनी जात की बेचारगी गनीमत है

रात इक नादार का घर जल गया था और बस
लोग तो बे वज्ह सन्नाटे से घबराने लगे

अधूरा हो के हूँ कितना मुकम्मल
ब मुश्किल जिंदगी बिखरा हुआ हूँ

क्या बढ़ेगा वो तसव्वुर की हदों से आगे
सुब्ह को देख के याद आए जिसे शाम की बात

जी में आता है कि शौकत किसी चिंगारी को
कर दूँ फिर शो ला ब दामाँ कि कोई बात चले

कुछ तो फितरत से मिली दानाई
कुछ मयस्सर हुई नादानों से

निगाह को भी मयस्सर है दिल की गहराई
ये तर्जुमान ए मोहब्बत है बे जबाँ न कहो

अगर तुम मिल भी जाते तो न होता खत्म अफ्साना
फिर उस के बा द दिल में क्या खबर क्या आरजू होती

जिंदगी से कोई मानूस तो हो ले पहले
जिंदगी खुद ही सिखा देगी उसे काम की बात

करीब से उसे देखो तो वो भी तन्हा है
जो दूर से नजर आता है अंजुमन यारो

हँसते हँसते बहे हैं आँसू भी
रोते रोते हँसती भी आई हमें

Read Also:Bejjati Shayari 
Read Also:Umeed Shayari 
Read Also:Dulhan Shayari