Pareshani Shayari परेशानी शायरी हिंदी में (2022-23)

Pareshani Shayari In Hindi | परेशानी शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Pareshani Shayari In Hindi | परेशानी शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Pareshani Shayari
तुम अपना रंज ओ गम अपनी परेशानी मुझे दे दो
तुम्हें गम की कसम इस दिल की वीरानी मुझे दे दो

तुम अपनी जुल्फ से पूछो मिरी परेशानी
कि हाल उस को है मालूम हू ब हू मेरा

जिंदगी में पहले इतनी तो परेशानी न थी
तंग दामानी थी लेकिन चाक दामानी न थी

अँधेरों में भटकना है परेशानी में रहना है
मैं जुगनू हूँ मुझे इक शब की वीरानी में रहना है

तहय्युर है बला का ये परेशानी नहीं जाती
कि तन ढकने पे भी जिस्मों की उर्यानी नहीं जाती

मैं भी तन्हा इस तरफ हूँ वो भी तन्हा उस तरफ
मैं परेशाँ हूँ तो हूँ वो भी परेशानी में है

परेशाँ होने वालों को सुकूँ कुछ मिल भी जाता है
परेशाँ करने वालों की परेशानी नहीं जाती

सिगरेट जिसे सुलगता हुआ कोई छोड़ दे
उस का धुआँ हूँ और परेशाँ धुआँ हूँ मैं

अपनी मिट्टी है कहाँ की क्या खबर बाद ए सबा
हो परेशाँ देखिए किस किस जगह मुश्त ए गुबार

जाहिद ने मिरा हासिल ए ईमाँ नहीं देखा
रुख पर तिरी जुल्फों को परेशाँ नहीं देखा

Read Also:Chup Shayari 
Read Also:Awara Shayari 
Read Also:Chahte Shayari