Pyari Shayari प्यारी शायरी हिंदी में (2022-23)

Pyari Shayari In Hindi | प्यारी शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Pyari Shayari In Hindi | प्यारी शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Pyari Shayari
शाम प्यारी शाम उस पर भी कोई दर खोल दे
शाख पर बैठी हुई है एक बेघर फाख्ता

वो बोले वस्ल की हाँ है तो प्यारी प्यारी रात
कहाँ से आई ये अल्लाह की सँवारी रात

ऐसी प्यारी शाम में जी बहलाने को
पाँव निकाले जा सकते हैं चादर से

प्यारी सूरत वो हाए क्या होगी
जिस को बे देखे प्यार आता है

सभी अंदाज ए हुस्न प्यारे हैं
हम मगर सादगी के मारे हैं

मक्सूद है आँखों से तिरा देखना प्यारे
जब तू ही न हो पास तो किस काम की आँखें

जहाँ देखो वहाँ मौजूद मेरा कृष्ण प्यारा है
उसी का सब है जल्वा जो जहाँ में आश्कारा है

दुश्मन ए जाँ है मगर जान से प्यारा भी है
ऐसा इस शहर में इक शख्स हमारा भी है

जमाल हर शहर से है प्यारा वो शहर मुझ को
जहाँ से देखा था पहली बार आसमान मैं ने

जुल्फ ए कलमूँही को प्यारे इतना भी सर मत चढ़ा
बे महाबा मुँह पे तेरे पाँव करती है दराज

तिरा बख्शा हुआ इक जख्म प्यारे
चली ठंडी हवा जलने लगा है

भूक चेहरों पे लिए चाँद से प्यारे बच्चे
बेचते फिरते हैं गलियों में गुबारे बच्चे

अपनी उर्दू तो मोहब्बत की जबाँ थी प्यारे
अब सियासत ने उसे जोड़ दिया मजहब से

आह ये आँसू प्यारे प्यारे
लिख दे हिसाब ए गम में हमारे

ये दिल का दर्द तो उम्रों का रोग है प्यारे
सो जाए भी तो पहर दो पहर को जाता है

अज बस कि तू प्यारा है मुझे तेरे सिवा यार
सौगंद में खाता नहीं वल्लाह किसी की

Read Also:Bechaini Shayari 
Read Also:Mohabbatein Shayari 
Read Also:Baddua Shayari