रूह शायरी | Rooh Shayari

Rooh Shayari | रूह शायरी

रूह शायरी | Rooh Shayari In Hindi

रूह शायरी | Rooh Shayari हिंदी में | शायरी, कोट्स और स्टेटस पढ़ें हिंदी में (Read Shayari, Quotes & Status in Hindi) : हेलो दोस्तों! आज आपको इस पेज पर कुछ रूह शायरी | Rooh Shayari मिलेंगे। इन्हे हमारी टीम की रिसर्च और आप लोगों के द्वारा भेजे कंटेंट से अपडेट करते है। हम पेज को अलग अलग समय पर बदलाब करते है। आपको इस रूह शायरी | Rooh Shayari के लिए कोई संदेह है, तो कृपया आप कॉमेंट करें। और रूह शायरी | Rooh Shayari के अलावा जाने! ...की यह वेबसाइट किस-किस टॉपिक पर पेज तैयार कर चुकी है। जानने के लिए यहां से हमारी वेबसाइट के बारे में पढ़ें!

रूह शायरी | Rooh Shayari In Hindi | रूह शायरी | Rooh Shayari हिंदी में

Rooh Shayari In Hindi | रूह शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Rooh Shayari In Hindi | रूह शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Rooh Shayari
फिराक दौड़ गई रूह सी जमाने में
कहाँ का दर्द भरा था मिरे फसाने में

आशिकों की रूह को ता लीम ए वहदत के लिए
जिस जगह अल्लाह रहता है वहाँ रहना पड़ा

मैं मुनक्कश हूँ तिरी रूह की दीवारों पर
तू मिटा सकता नहीं भूलने वाले मुझ को

रूह देती रही तर्गीब ए तअ ल्ली बरसों
हम मगर तेरी गली छोड़ के ऊपर न गए

जिस्म क्या रूह की है जौलाँ गाह
रूह क्या इक सवार ए पा ब रकाब

आखिर को रूह तोड़ ही देगी हिसार ए जिस्म
कब तक असीर खुशबू रहेगी गुलाब में

उकाबी रूह जब बेदार होती है जवानों में
नजर आती है उन को अपनी मंजिल आसमानों में

रूह ओ बदन में जारी है इक मा रका ए खूँ सदियों से
एक हवाला मिट्टी का है एक हवाला पानी का

मिरे साज ए नफस की खामुशी पर रूह कहती है
न आई मुझ को नींद और सो गया अफ्साना ख्वाँ मेरा

रूह से लिपटे दर्द के मंजर
टूट रहे हैं जख्म के पैकर

हर रूह पस ए पर्दा ए तरतीब ए अनासिर
ना कर्दा गुनाहों की सजा काट रही है

रूह शायरी | Rooh Shayari 2 line or 4 line

रूह शायरी | Rooh Shayari 2 लाइन या 4 लाइन नीचे दे रहें!

रूह की गहराई में पाता हूँ पेशानी के जख्म
सिर्फ चाहा ही नहीं मैं ने उसे पूजा भी है

टूट कर रूह में शीशों की तरह चुभते हैं
फिर भी हर आदमी ख्वाबों का तमन्नाई है

हो जाती है हवा कफस ए तन से छट के रूह
क्या सैद भागता है रिहा हो के दाम से

बदन ने छोड़ दिया रूह ने रिहा न किया
मैं कैद ही में रहा कैद से निकल के भी

वो खुदा है तो मिरी रूह में इकरार करे
क्यूँ परेशान करे दूर का बसने वाला

Read Also:Mehboob Shayari 
Read Also:Khuddari Shayari 
Read Also:Tum Shayari 

रूह शायरी | Rooh Shayari for रूह शायरी | Rooh Shayari

वेबसाइट मुख्य पृष्ट पर नए पोस्ट है। पोस्ट में जानें, हम नीचे कुछ अन्य संबंधित रूह शायरी | Rooh Shayari भेज रहे है। अभी कभी कुछ पृष्ट खाली दिखाई देंगे। उसके लिए आप हमारे संपर्क सूत्र से जुड़े, और अपडेट हेतु छोटी सी बात कहें।

रूह शायरी | Rooh Shayari हिंदी में पढ़ें

कुछ पेज अभी भी आपके प्रतिक्रिया और अपडेट के लिए खाली है। आप भी इस वेबसाइट पर कुछ शायरी कोट्स स्टेटस पहुंचा सकते हैं। हमारी टीम 24 घंटे से 48 घंटे की कार्यवाही करके आपको सूचित करेगी। यदि आप रूह शायरी | Rooh Shayari को पेज पर जोड़ना चाहते है, तो आप यहां से वेबसाइट पर अपना कंटेंट लिखें !

रूह शायरी | Rooh Shayari 2 Line

हमारी टीम कुछ नए चेंज और बदलाब कर रही है, जिससे कुछ दिन लग सकते है। जैसे ही ये रूह शायरी | Rooh Shayari के लिए कुछ अन्य को जोड़ा जाएगा, तो आपको यह अतिरिक्त और भी शब्द मिलेंगे। इसके अलावा जान लें, ... की ओर क्या नया आने वाला है?

रूह शायरी | Rooh Shayari 2022-23

हमारी टीम कई लेख को अपडेट करने और रूह शायरी | Rooh Shayari पेज को ओर बढ़ाने हेतु उत्सुक है। यदि आपके पास भी कोई रूह शायरी | Rooh Shayari या संबंधित टॉपिक जानकारी है। तो हमसे संपर्क कीजिए या कॉमेंट में उस जानकारी को घुसा दीजिए। टीम आपके प्रयास और अपडेट को परख के बाद जोड़ेगी। साथ ही कुछ नए टॉपिक के विचार हेतु भी आपसे साझा किया जा रहा है। वर्ष 2023 प्रारंभ होने तक हम रूह शायरी | Rooh Shayari और पोस्ट कई सारे बदलाव के लिए उत्सुक है। एन्जॉय शायरी के साथ जुड़कर विज्ञापन या कोई अन्य प्रचार के लिए आप हमारी टीम से संपर्क करें !

पढ़ने के लिए धन्यवाद,


TAG: रूह शायरी | Rooh Shayari in hindi, shayari on रूह शायरी | Rooh Shayari, रूह शायरी | Rooh Shayari for रूह शायरी | Rooh Shayari, रूह शायरी | Rooh Shayari in english, रूह शायरी | Rooh Shayari status in hindi, quotes on रूह शायरी | Rooh Shayari in hindi, shayari for रूह शायरी | Rooh Shayari, best रूह शायरी | Rooh Shayari in 2022, रूह शायरी | Rooh Shayari by रूह शायरी | Rooh Shayari, रूह शायरी | Rooh Shayari 2 line, रूह शायरी | Rooh Shayari 4 line, रूह शायरी | Rooh Shayari 2 लाइन, रूह शायरी | Rooh Shayari 4 लाइन, रूह शायरी | Rooh Shayari of रूह शायरी | Rooh Shayari.