Sabak Shayari सबक शायरी हिंदी में (2022-23)

Sabak Shayari In Hindi | सबक शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Sabak Shayari In Hindi | सबक शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Sabak Shayari सबक शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Sabak Shayari
लेता हूँ मकतब ए गम ए दिल में सबक हनूज
लेकिन यही कि रफ्त गया और बूद था

कुछ और सबक हम को जमाने ने सिखाए
कुछ और सबक हम ने किताबों में पढ़े थे

सबक ऐसा पढ़ा दिया तू ने
दिल से सब कुछ भुला दिया तू ने

Sabak Shayari सबक शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

हर मुत्तकी को इस से सबक लेना चाहिए
जन्नत की चाह ने जिसे शद्दाद कर दिया

Sabak Shayari सबक शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

उन सफीनों की तबाही में है इबरत का सबक
जो किनारे तक पहुँच कर नज्र ए तूफाँ हो गए

हम मोहब्बत का सबक भूल गए
तेरी आँखों ने पढ़ाया क्या है

सबक मिला है ये मेराज ए मुस्तफा से मुझे
कि आलम ए बशरीयत की जद में है गर्दूं

सच ये है हम ही मोहब्बत का सबक पढ़ न सके
वर्ना अन पढ़ तो न थे हम को पढ़ाने वाले

न तिरे सिवा कोई लिख सके न मिरे सिवा कोई पढ़ सके
ये हुरूफ ए बे वरक ओ सबक हमें क्या जबान सिखा गए

इश्क अदब है तो अपने आप आए
गर सबक है तो फिर पढ़ा मुझ को

किस मुँह से करें उन के तगाफुल की शिकायत
खुद हम को मोहब्बत का सबक याद नहीं है

जान भी साथ छोड़ देती है
ये सबक जिंदगी से मिलता है

कितने सुबुक दिल हुए तुझ से बिछड़ने के बाद
उन से भी मिलना पड़ा जिन से मोहब्बत न थी

सबक आ के गोर ए गरीबाँ से ले लो
खमोशी मुदर्रिस है इस अंजुमन में

हम सुबुक रूह असीरों के लिए लाजिम है
कफस ए गुल को करे बाद ए बहारी तय्यार

Read Also:Behad Shayari 
Read Also:Sapna Shayari 
Read Also:Bachapan Shayari