Shak Shayari | 621+ शक शायरी

Shak Shayari Consulting – What The Heck Is That?. What Could Shak Shayari Do To Make You Switch?. Shak Shayari And The Art Of Time Management.

Free Advice On Profitable Shak Shayari. Shak Shayari Resources: google.com (website). The Power Of Shak Shayari. 10 Things I Wish I Knew About Shak Shayari. Shak Shayari Helps You Achieve Your Dreams.	 Shak Shayari

 

वो हुनर नहीं जिसे काबिल करना पड़े, वो मोहोब्बत नहीं जहाँ प्यार साबित करना पड़े।

 

मोहोब्बत में मोहोब्बत से ज्यादा भरोसा ज़रूरी होता है

 

शक वो दीमक है साहब जो प्यार की लकड़ी को खोखला कर देता है

 

दिमाग चाहता था की थोड़ा शक किया जाए दिल ने प्यार में प्यार से कहा थोड़ा भरोसा भी किया करो

 

क़त्ल जो इश्क़ का हुआ तहकीकात हुई तो मालूम हुआ कसूर शक का था

 

सोचते हैं सो बार लोग इश्क़ करने से पहले शक करने से पहले कोई एक बार भी नहीं सोचता

Shak Shayari in Hindi [ शक शायरी इन हिंदी]

अपने रब के फैसले पर भला शक कैसे करूँ,
सजा दे रहा है गर वो, कुछ तो गुनाह रहा होगा मेरा।

धड़कनें अहसास कराती हैं जनाब कि जिन्दा हैं हम,
वरना शक़ होता है कभी-कभी अपने वजूद पर।

प्यार ऐसा हो जहाँ शक की गुंजाइश हो,
महबूब का दिल भरने तक आजमाइश हो।

शक ना कर मेरी मोहब्बत पर पगली,
अगर मै सबूत देने पर आया तो तु बदनाम हो जायेगी।

आधे दुःख गलत लोगो से उम्मीद रखने से होते हैं,
और बाकी आधे सच्चे लोगो पर शक करने से होते है।

शक से भी खत्म हो जाते है अक्सर रिश्तें,
कसूर हर बार गलतियों का नहीं होता।

शक तो था मुहब्बत मे नुकसान होगा पर,
सारा मेरा ही होगा ये मालूम न था।

मेरे शक की दीवार को तोड़ दो,
अपने यकीन की एक और ईट रख दो।

उस इंसान की मोहब्बत पर कभी,
शक मत करना,
जो आपको आपसे नहीं,
पर अपने रब से मांगता हो।

शक की सुई को हमेशा घुमाते रहिये,
क्योंकि जमाना अब ऐतबार के काबिल नहीं।

हर आदमी अब शक के घेरे में है,
इंसानियत का वजूद अब अँधेरे में है।

किस गम में हो, किस गम ने मारा है,
सब पर करते हो शक, किसको कहोगे हमारा है।

मोहब्बत करना दिल से शक को निकालकर,
रूठने मत देना उनको अपने दिल में बसाकर।

तेरे शक का कोई इलाज नहीं,
इसलिए आज भी तेरा कोई खास नहीं।

कभी ये शक का चश्मा हटा कर देखो,
कभी तो अपना बनाकर देखो,
मिलेंगे तुम्हारे हर प्रश्न के उत्तर,
बस थोड़ा नजर से नजर मिलाकर देखो।

जिन्दगी बीत जाती है,
किसी को अपना बनाने में,
पर एक शक ही काफी है,
तमाम रिश्तों को उजाड़ने में।

भरोसा होता तो शक ही न होता,
यही सोचकर मैं सफाई नहीं देता,
जो अपना रहेगा वो अपना ही होगा,
रिश्तों की मैं दुहाई नहीं देता।

शक के दीमक दिमाग में मत पलने दो,
इंसान और रिश्तें दोनों को तोड़ देता है।

दोस्त, शक का कोई इलाज नही होता,
और हर क्यूँ का कोई जवाब नही होता।

इक उम्र वो थी कि जादू पर भी यकीन था,
इक उम्र ये है कि हकीकत पर भी शक है।

उँगलियाँ शक की तुम भी उठाने लगे हो,
लगता है दिल की जगह दिमाग लगाने लगे हो।

शक करना भी जरूरी है, ऐतबार से पहले,
यार परखना जरूरी है, प्यार से पहले।

तुम देर से आये तो हमें चिंता हुई,
और हम देर से आये तो तुम्हें शक,
किस को दिखाए इस दिल के जख्म को,
कितना दिया था, हमने तुम्हें हक।

याद ऐसा करो कि कोई हद न हो,
भरोसा इतना करना कि शक न हो,
और इंतजार इतना करो कि कोई वक्त न हो,
दोस्ती ऐसी करो कि कभी नफ़रत न हो।

मेरी मौत पर वो रोये नहीं ऐ दोस्त,
उन्हें शक था मुझमे जान अभी बाकी है।

सिखा दिया दुनिया ने मुझे अपनों पर भी शक करना,
मेरी फितरत में तो था गैरों पर भरोसा करना।

अकेले में उनसे दिल की क्या बात हो गई,
लोगो के मन में फिर शक की शुरूआत हो गई।

रिश्ता, प्यार, ख्याल, दीदार और माफ़ी हैं,
इक शक इनकी मौत के लिए काफी है।

शक तो था मोहब्बत में नुकसान होगा,
पर ये पता नही था वो मासूम इंसान होगा।

भरोसा ज्यादा टूटे तो शक होने लगता है,
और जब शक हो तो रिश्ता खोने लगता है।

सौ बार सोच लिया उसने,
मुझ पर हक़ रखने से पहले,
एक बार भी ना सोचा उसने,
मुझ पर शक करने से पहले।

अक्सर दिमाग कहता है कि शक कर,
चुपके से दिल कहता है कि भरोसा रख।

दिल टूटे तो निगाहों में शक छा जाता है,
अब तो हर इंसान बेवफा नजर आता है।

जब हमें उनसे मोहब्बत थी,
उन्हें हमारे मुहब्बत पे शक था,
जब उन्हें एहसास हुआ मेरे मुहब्बत का,
तब मुझ पर किसी और का हक था

इसमें कोई शक नही तुम मेरे दिल में हो,
पर हमारा मिलन सवालों के घेरे में है।

उस पति के प्यार पे,
कभी शक मत करना,
जो अपने बूढ़ी मां का ख्याल,
आपसे ज्यादा करता है।

शक नही तेरे लिए बस प्यार भरा है,
तुझे खो न दूँ बस इसलिए ये दिल डरा है।

तुम्हारा सिर्फ हवाओं पर शक गया होगा,
चिराग खुद भी तो जल जलकर थक गया होगा।

बस इसी बात ने उन्हे शक मे डाल दिया,
उफ्फ इतना प्यार, कोई मतलब तो होगा।

प्यार ज्यादा हो तो शक अपने आप होने लगता है,
महबूब शक करें तो कभी इसे प्यार की तौहीन मत समझना।

अगर है भरोसा तुम्हें तुम्हारे शक पर,
तो हमें भी शक है तुम्हारे भरोसे पर।

लोगों के पास बहुत कुछ है मगर मुश्किल यही है कि,
भरोसे पे शक है और अपने शक पे भरोसा हैं।

लाख समझाया उसको की दुनिया शक करती है,
मगर उसकी आदत नहीं गयी मुस्कुरा कर गुजरने की।

शक ना कर मेरी मुहब्बत पर पगली,
अगर मै सबूत देने पर आया तो तु बदनाम हो जायेगी।

रिश्तों का कत्ल इक छोटी सी शक कर गई,
हमारी मोहब्बत अब खामोशी में बदल गई।

किसी पर शक करके बर्बाद होने से अच्छा है,
किसी पर यकीन करके बर्बाद जो जाओ।

जब से धोखा खाया है हमने मोहब्बत की राह में,
अपने तक आ गये है अब तो शक की निगाह में।

ऐ दोस्त, शक न कर मेरी हिम्मत पर,
मैं ख्वाब बुन लेता हूँ टूटे धागों को जोड़कर।

तेरा तब तक कोई ख़ास नहीं होगा,
जब तक तेरे शक का इलाज नहीं होगा।

यकीन क्या है जो आये यकीं दिलाने से,
मैं चाहती हूँ तुझे जान इक जमाने से,
इसीलिए तो कहते है कि शक न करना तुम,
ये आग वो है जो बुझती नहीं बुझाने से।