Tarakki Shayari तरक्की शायरी हिंदी में (2022-23)

Tarakki Shayari In Hindi | तरक्की शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Tarakki Shayari In Hindi | तरक्की शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Tarakki Shayari तरक्की शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Tarakki Shayari
किस तरह हुस्न ए जबाँ की हो तरक्की वहशत
मैं अगर खिदमत ए उर्दू ए मुअ ल्ला न करूँ

ये तरक्की का जमाना है तिरे आशिक पर
उँगलियाँ उठती थीं अब हाथ उठा करते हैं

ये ख्वाब कौन दिखाने लगा तरक्की के
जब आदमी भी अदद में शुमार होने लगे

Tarakki Shayari तरक्की शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

तड़प मेरी तरक्की कर रही है
जमीं टकरा न जाए आसमाँ से

Tarakki Shayari तरक्की शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

इस दौर ए तरक्की के अंदाज निराले हैं
जेहनों में अँधेरे हैं सड़कों पे उजाले हैं

रही हमेशा तरक्की मिरी असीरी को
गले पड़ी जो हुई पाँव से जुदा जंजीर

ऐसी तरक्की पर तो रोना बनता है
जिस में दहशत गर्द क्रोना बनता है

ऐ तरक्की बात जी की जी में रख
मुँह से निकली और पराई हो गई

पेश खेमा हैं कयामत का यही दो फित्ने
बाढ़ पर कद है तरक्की पे है जौबन तेरा

आसार ए इश्क आँखों से होने लगे अयाँ
बेदारी की तरक्की हुई ख्वाब कम हुआ

हकीकत छुप नहीं सकती बनावट के उसूलों से
कि खुशबू आ नहीं सकती कभी कागज के फूलों से

यकताई पे है नाज तो इतना भी रहे याद
तुम सा मुझे तो तुम को भी मुझ सा न मिलेगा

आगा मोहम्मद तकी खान तरक्की

बुरा हो या इलाही दिल लगी का
घटा की उम्र और उल्फत बढ़ा की

दुनिया के जो मजे हैं हरगिज वो कम न होंगे
चर्चे यूँही रहेंगे अफ्सोस हम न होंगे

जिसे इशरत कदा ए दहर समझता था मैं
आखिर ए कार वो इक ख्वाब ए परेशाँ निकला

Read Also:Rooh Shayari 
Read Also:Chilam Shayari 
Read Also:Dhamki Shayari