Udhar Shayari उधर शायरी हिंदी में (2022-23)

Udhar Shayari In Hindi | उधर शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Udhar Shayari In Hindi | उधर शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Udhar Shayari उधर शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Udhar Shayari
इधर से तकाजा उधर से तगाफुल
अजब खींचा तानी में पैगाम बर है

इधर उधर के सुनाए हजार अफ्साने
दिलों की बात सुनाने का हौसला न हुआ

जब्त देखो उधर निगाह न की
मर गए मरते मरते आह न की

Udhar Shayari उधर शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

उधर चमन में जर ए गुल लुटा इधर ताबाँ
हमारी बे सर ओ सामानियों के दिन आए

Udhar Shayari उधर शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

पहले सौ बार इधर उधर देखा
तब तुझे डर के इक नजर देखा

जग में आ कर इधर उधर देखा
तू ही आया नजर जिधर देखा

चाक ए दिल से झाँकिए दुनिया इधर से दीन उधर
देखिए सब का तमाशा इस शिगाफ ए दर से आप

अंदेशा है कि दे न इधर की उधर लगा
मुझ को तो ना पसंद वतीरे सबा के हैं

उधर वो बद गुमानी है इधर ये ना तवानी है
न पूछा जाए है उस से न बोला जाए है मुझ से

काबा ओ दैर जिधर देखा उधर कसरत है
आह क्या जाने किधर गोशा ए तन्हाई है

उड़ के जाती है मिरी खाक इधर गाह उधर
कुछ पता दे न गई उम्र ए गुरेजाँ अपना

उधर वो अहद ओ पैमान ए वफा की बात करते हैं
इधर मश्क ए सितम भी तर्क फरमाया नहीं जाता

अधर उधर मिरी आँखें तुझे पुकारती हैं
मिरी निगाह नहीं है जबान है गोया

Read Also:Hosala Shayari 
Read Also:Patang Shayari 
Read Also:Hijab Shayari