उलझन शायरी | Uljhan Shayari

Uljhan Shayari | उलझन शायरी

उलझन शायरी | Uljhan Shayari In Hindi

उलझन शायरी | Uljhan Shayari हिंदी में | शायरी, कोट्स और स्टेटस पढ़ें हिंदी में (Read Shayari, Quotes & Status in Hindi) : हेलो दोस्तों! आज आपको इस पेज पर कुछ उलझन शायरी | Uljhan Shayari मिलेंगे। इन्हे हमारी टीम की रिसर्च और आप लोगों के द्वारा भेजे कंटेंट से अपडेट करते है। हम पेज को अलग अलग समय पर बदलाब करते है। आपको इस उलझन शायरी | Uljhan Shayari के लिए कोई संदेह है, तो कृपया आप कॉमेंट करें। और उलझन शायरी | Uljhan Shayari के अलावा जाने! ...की यह वेबसाइट किस-किस टॉपिक पर पेज तैयार कर चुकी है। जानने के लिए यहां से हमारी वेबसाइट के बारे में पढ़ें!

उलझन शायरी | Uljhan Shayari In Hindi | उलझन शायरी | Uljhan Shayari हिंदी में

Uljhan Shayari In Hindi | उलझन शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Uljhan Shayari In Hindi | उलझन शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Uljhan Shayari
नक्श तो सारे मुकम्मल हैं अब उलझन ये है
किस को आबाद करे और किसे वीरानी दे

एक उलझन रात दिन पलती रही दिल में कि हम
किस नगर की खाक थे किस दश्त में ठहरे रहे

एक मुद्दत से इसी उलझन में हूँ
उन को या खुद को किसे सज्दा करूँ

उस के जाने का यकीं तो है मगर उलझन में हूँ
फूल के हाथों से ये खुश बू जुदा कैसे हुई

वो मिरी रूह की उलझन का सबब जानता है
जिस्म की प्यास बुझाने पे भी राजी निकला

कुछ नहीं मालूम होता दिल की उलझन का सबब
किस को देखा था इलाही बाल सुलझाते हुए

इस उलझन को सुलझाने की कौन सी है तदबीर लिखो
इश्क अगर है जुर्म तो मुजरिम राँझा है या हीर लिखो

बने हैं काम सब उलझन से मेरे
यही अतवार हैं बचपन से मेरे

अजीब उलझन में तू ने डाला मुझे भी ऐ गर्दिश ए जमाना
सुकून मिलता नहीं कफस में न रास आता है आशियाना

खारों से ये कह दो कि गुल ए तर से न उलझें
सीखे कोई अंदाज ए शरीफाना हमारा

वक्त और हालात पर क्या तब्सिरा कीजे कि जब
एक उलझन दूसरी उलझन को सुलझाने लगे

उलझन शायरी | Uljhan Shayari 2 line or 4 line

उलझन शायरी | Uljhan Shayari 2 लाइन या 4 लाइन नीचे दे रहें!

दाम ए खुशबू में गिरफ्तार सबा है कब से
लफ्ज इजहार की उलझन में पड़ा है कब से

उस ने सुन कर बात मेरी टाल दी
उलझनों में और उलझन डाल दी

इंकार ही कर दीजिए इकरार नहीं तो
उलझन ही में मर जाएगा बीमार नहीं तो

आप दरिया की रवानी से न उलझें हरगिज
तह में उस के कोई गिर्दाब भी हो सकता है

वही जो देता है दुनिया को उलझनों से नजात
कभी कभी वही उलझन में डाल देता है

मैं ने दुनिया छोड़ दी लेकिन मिरा मुर्दा बदन
एक उलझन की तरह कातिल की नजरों में रहा

पड़ गए जुल्फों के फंदे और भी
अब तो ये उलझन है चंदे और भी

जिन खयालों के उलट फेर में उलझीं साँसें
उन में कुछ और भी साँसों का इजाफा कर लें

Read Also:Nadan Shayari 
Read Also:Janab Shayari 
Read Also:Chandni Shayari 

उलझन शायरी | Uljhan Shayari for उलझन शायरी | Uljhan Shayari

वेबसाइट मुख्य पृष्ट पर नए पोस्ट है। पोस्ट में जानें, हम नीचे कुछ अन्य संबंधित उलझन शायरी | Uljhan Shayari भेज रहे है। अभी कभी कुछ पृष्ट खाली दिखाई देंगे। उसके लिए आप हमारे संपर्क सूत्र से जुड़े, और अपडेट हेतु छोटी सी बात कहें।

उलझन शायरी | Uljhan Shayari हिंदी में पढ़ें

कुछ पेज अभी भी आपके प्रतिक्रिया और अपडेट के लिए खाली है। आप भी इस वेबसाइट पर कुछ शायरी कोट्स स्टेटस पहुंचा सकते हैं। हमारी टीम 24 घंटे से 48 घंटे की कार्यवाही करके आपको सूचित करेगी। यदि आप उलझन शायरी | Uljhan Shayari को पेज पर जोड़ना चाहते है, तो आप यहां से वेबसाइट पर अपना कंटेंट लिखें !

उलझन शायरी | Uljhan Shayari 2 Line

हमारी टीम कुछ नए चेंज और बदलाब कर रही है, जिससे कुछ दिन लग सकते है। जैसे ही ये उलझन शायरी | Uljhan Shayari के लिए कुछ अन्य को जोड़ा जाएगा, तो आपको यह अतिरिक्त और भी शब्द मिलेंगे। इसके अलावा जान लें, ... की ओर क्या नया आने वाला है?

उलझन शायरी | Uljhan Shayari 2022-23

हमारी टीम कई लेख को अपडेट करने और उलझन शायरी | Uljhan Shayari पेज को ओर बढ़ाने हेतु उत्सुक है। यदि आपके पास भी कोई उलझन शायरी | Uljhan Shayari या संबंधित टॉपिक जानकारी है। तो हमसे संपर्क कीजिए या कॉमेंट में उस जानकारी को घुसा दीजिए। टीम आपके प्रयास और अपडेट को परख के बाद जोड़ेगी। साथ ही कुछ नए टॉपिक के विचार हेतु भी आपसे साझा किया जा रहा है। वर्ष 2023 प्रारंभ होने तक हम उलझन शायरी | Uljhan Shayari और पोस्ट कई सारे बदलाव के लिए उत्सुक है। एन्जॉय शायरी के साथ जुड़कर विज्ञापन या कोई अन्य प्रचार के लिए आप हमारी टीम से संपर्क करें !

पढ़ने के लिए धन्यवाद,


TAG: उलझन शायरी | Uljhan Shayari in hindi, shayari on उलझन शायरी | Uljhan Shayari, उलझन शायरी | Uljhan Shayari for उलझन शायरी | Uljhan Shayari, उलझन शायरी | Uljhan Shayari in english, उलझन शायरी | Uljhan Shayari status in hindi, quotes on उलझन शायरी | Uljhan Shayari in hindi, shayari for उलझन शायरी | Uljhan Shayari, best उलझन शायरी | Uljhan Shayari in 2022, उलझन शायरी | Uljhan Shayari by उलझन शायरी | Uljhan Shayari, उलझन शायरी | Uljhan Shayari 2 line, उलझन शायरी | Uljhan Shayari 4 line, उलझन शायरी | Uljhan Shayari 2 लाइन, उलझन शायरी | Uljhan Shayari 4 लाइन, उलझन शायरी | Uljhan Shayari of उलझन शायरी | Uljhan Shayari.