Village Shayari विलेज शायरी 581+

A Surprising Tool To Help You Village Shayari. 5 Problems Everyone Has With Village Shayari – How To Solved Them. How To Take The Headache Out Of Village Shayari.

Rules Not To Follow About Village Shayari. Fast-Track Your Village Shayari. How To Deal With(A) Very Bad Village Shayari. At Last, The Secret To Village Shayari Is Revealed.

village shayari

शहर में छाले पड़ जाते है जिन्दगी के पाँव में,
सुकून का जीवन बिताना है तो आ जाओ गाँव में.

 

गाँव में बड़े होने पर भी बच्चों को माँ-बाप डांटते है,
ऐसा लगता है जैसे अपनापन और खुशियाँ बांटते है.

 

गाँव में दिखती नही तरक्की की निशानी,
पर यहाँ की सुबह होती है बड़ी ही सुहानी.

 

कितना भी बड़ा जख्म या घाव हो,
अकेलापन महसूस नही होता अगर गाँव हो.

 

जहाँ सीधे-सादे लोगो का है डेरा,
खुशहाली से भरा वो गाँव है मेरा.

 

गाँव में, पैसे से जेब हल्की और दिल के बड़े होते है,
गैरों के मुसीबत में भी अपनों की तरह खड़े होते है.

 

शहर के बच्चे किताब के पेड़ में
पड़े झूले को देख सकते है,
मगर गाँव के बच्चे उस झूले में झूल कर
एक अनमोल ख़ुशी महसूस कर सकते है.

 

गाँव के बच्चे बारिश में भीगकर खुश हो जाते है,
शहर के बच्चे बारिश में भीगकर बीमार हो जाते है.

 

नैनों में था रास्ता, हृदय में था गांव
हुई न पूरी यात्रा, छलनी हो गए पांव