Wada Shayari वादा शायरी हिंदी में (2022-23)

Wada Shayari In Hindi | वादा शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Wada Shayari In Hindi | वादा शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Wada Shayari वादा शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Wada Shayari
किसी से आज का वादा किसी से कल का वादा है
जमाने को लगा रक्खा है इस उम्मीद वारी में

महशर का किया वा दा याँ शक्ल न दिखलाई
इकरार इसे कहते हैं इंकार इसे कहते हैं

वादा वो कर रहे हैं जरा लुत्फ देखिए
वादा ये कह रहा है न करना वफा मुझे

Wada Shayari वादा शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

कोई इशारा दिलासा न कोई व अदा मगर
जब आई शाम तिरा इंतिजार करने लगे

Wada Shayari वादा शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

वा दा मुआवजे का न करता अगर खुदा
खैरात भी सखी से न मिलती फकीर को

वो उन का व अदा वो ईफा ए अहद का आलम
कि याद भी नहीं आता है भूलता भी नहीं

साफ कह दीजिए वादा ही किया था किस ने
उज्र क्या चाहिए झूटों के मुकरने के लिए

यूँही वादा करो यकीं हो जाए
क्यूँ कसम लूँ कसम के क्या मअनी

सुब्ह बिछड़ कर शाम का व अदा शाम का होना सहल नहीं
उन की तमन्ना फिर कर लेना सुब्ह को पहले शाम करो

वो और वा दा वस्ल का कासिद नहीं नहीं
सच सच बता ये लफ्ज उन्ही की जबाँ के हैं

किया था दिन का वादा रात को आया तो क्या शिकवा
उसे भूला नहीं कहते जो भूला घर में शाम आया

शायद कि किसी और से था वस्ल का वादा
मालूम हुआ ये तिरी बे जारी ए शब से

क्यूँ पशेमाँ हो अगर वअ दा वफा हो न सका
कहीं वादे भी निभाने के लिए होते हैं

याद न आने का व अदा कर के
वो तो पहले से सिवा याद आया

वो करेंगे वस्ल का वा दा वफा
रंग गहरे हैं हमारी शाम के

बे उज्र वो कर लेते हैं व अदा ये समझ कर
ये अहल ए मुरव्वत हैं तकाजा न करेंगे

इक कयामत है आप का वा दा
चलिए ये भी अजाब हो जाए

आज व अदा वो फिर निभाएगा
वादी ओ गुल पे क्या खुमारी है

Read Also:Farebi Shayari 
Read Also:Baap Beta Shayari 
Read Also:Safar Shayari