Wajood Shayari वजूद शायरी हिंदी में (2022-23)

Wajood Shayari In Hindi | वजूद शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Wajood Shayari In Hindi | वजूद शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Wajood Shayari
मिरे वजूद में शामिल रहे हैं कितने वजूद
तो फिर ये कैसे कहूँ जो किया किया मैं ने

आँधियों की जद में है मेरा वजूद
और मैं दीवार की तस्वीर हूँ

इस तरह कहत ए हवा की जद में है मेरा वजूद
आँधियाँ पहचान लेती हैं ब आसानी मुझे

खुदा की खमोशी में शायद हो उस का वजूद
जमाना हुआ नाम अपना पुकारे हुए

मिरा वजूद जो पत्थर दिखाई देता है
तमाम उम्र की शीशागरी का हासिल है

अंधे अदम वजूद के गिर्दाब से निकल
ये जिंदगी भी ख्वाब है तू ख्वाब से निकल

मिरे वजूद के अंदर है इक कदीम मकान
जहाँ से मैं ये उदासी उधार लेती हूँ

काएम किया है मैं ने अदम के वजूद को
दुनिया समझ रही है फना हो गया हूँ मैं

अपने दम से है जमाने में घोटालों का वजूद
हम जहाँ होंगे घोटाले ही घोटाले होंगे

खुदा वजूद में है आदमी के होने से
और आदमी का तसलसुल खुदा से काएम है

मिरे वजूद को परछाइयों ने तोड़ दिया
मैं इक हिसार था तन्हाइयों ने तोड़ दिया

मिरे वजूद के खुश्बू निगार सहरा में
वो मिल गए हैं तो मिल कर बिछड़ भी सकते हैं

आँसुओं की तरह वजूद मिरा
बहता जाता है आबशार के साथ

यूँही इंसानों के शहरों में मिला अपना वजूद
किसी वीराने में इक फूल खिला हो जैसे

Read Also:Bedardi Shayari 
Read Also:Akele Shayari 
Read Also:Tamanna Shayari