Waqt Shayari | वक्त शायरी 759+

waqt shayari पढ़ने ने अपनी उत्सुकता दिखाए। जब आप किसी शायरी को लेकर कोई समस्या में हो, तो आप संपर्क करें।

Does Your Waqt Shayari Goals Match Your Practices?. Five Rookie Waqt Shayari Mistakes You Can Fix Today. 10 Step Checklist for Waqt Shayari.

How Much Do You Charge For Waqt Shayari. Time-tested Ways To Waqt Shayari. Marketing And Waqt Shayari. Waqt Shayari Stats: These Numbers Are Real. 10 Factors That Affect Waqt Shayari.Waqt Shayari

शायद यह वक़्त हम से कोई चाल चल गया,
रिश्ता वफ़ा का और ही रंगों में ढ़ल गया,
अश्क़ों की चाँदनी से थी बेहतर वो धूप ही,
चलो उसी मोड़ से शुरू करें फिर से जिंदगी।

 

वक्त की धुंध में छुप जाते हैं ताल्लुक,
बहुत दिनों तक किसी की आँख से ओझल ना रहिये।।

 

ऐ बुरे वक्त, जरा अदब से पेश आ,
वक्त नही लगता वक्त बदलने में।

 

बुरा हो वक्त तो सब आजमाने लगते हैं
बड़ो को छोटे भी आँखे दिखाने लगते हैं
नये अमीरों के घर भूल कर भी मत जाना
हर ek चीज की कीमत बताने लगते हैं

 

हर वक्त मेरा वहम नहीं जाता,
एक बार और कह दो की तुम मेरे हो।।

 

ज़िन्दगी की जरूरतें समझिए वक्त कम है फरमाइश लम्बी हैं,
झूठ-सच, जीत-हार की बातें छोड़िये दास्तान बहुत लम्बी है।।

 

खूब करता है, वो मेरे ज़ख्म का इलाज,
कुरेद कर देख लेता है और कहता है वक्त लगेगा।।