Zakhmi Shayari ज़ख्मी शायरी हिंदी में (2022-23)

Zakhmi Shayari In Hindi | ज़ख्मी शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Zakhmi Shayari In Hindi | ज़ख्मी शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Zakhmi Shayari ज़ख्मी शायरी हिंदी में (2022-23) In Hindi

Zakhmi Shayari

जख्म ए तलाश में है निहाँ मरहम ए दलील
तू अपना दिल न हार मोहब्बत बहाल रख

न कुर्ब ए जात ही हासिल न जख्म ए रुस्वाई
अजीब लगता है अब खुद से राब्ता रखना

Zakhmi Shayari ज़ख्मी शायरी हिंदी में (2022-23) हिंदी में

बनाते हैं हजारों जख्म ए खंदाँ खंजर ए गम से
दिल ए नाशाद को हम इस तरह पुर शाद करते हैं

Zakhmi Shayari ज़ख्मी शायरी हिंदी में (2022-23) 2 line

खंदा ए लब में निहाँ जख्म ए हुनर देखेगा कौन
बज्म में हैं सब के सब अहल ए नजर देखेगा कौन

हर बज्म क्यूँ नुमाइश ए जख्म ए हुनर बने
हर भेद अपने दोस्तों के दरमियाँ न खोल

जख्म ए तन्हाई में खुशबू ए हिना किस की थी
साया दीवार पे मेरा था सदा किस की थी

Read Also:Khatam Shayari 
Read Also:Hak Shayari 
Read Also:Nazakat Shayari