ज़िद शायरी | Zid Shayari

Zid Shayari | ज़िद शायरी

ज़िद शायरी | Zid Shayari In Hindi

ज़िद शायरी | Zid Shayari हिंदी में | शायरी, कोट्स और स्टेटस पढ़ें हिंदी में (Read Shayari, Quotes & Status in Hindi) : हेलो दोस्तों! आज आपको इस पेज पर कुछ ज़िद शायरी | Zid Shayari मिलेंगे। इन्हे हमारी टीम की रिसर्च और आप लोगों के द्वारा भेजे कंटेंट से अपडेट करते है। हम पेज को अलग अलग समय पर बदलाब करते है। आपको इस ज़िद शायरी | Zid Shayari के लिए कोई संदेह है, तो कृपया आप कॉमेंट करें। और ज़िद शायरी | Zid Shayari के अलावा जाने! ...की यह वेबसाइट किस-किस टॉपिक पर पेज तैयार कर चुकी है। जानने के लिए यहां से हमारी वेबसाइट के बारे में पढ़ें!

ज़िद शायरी | Zid Shayari In Hindi | ज़िद शायरी | Zid Shayari हिंदी में

Zid Shayari In Hindi | ज़िद शायरी हिंदी में

* Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.Zid Shayari In Hindi | ज़िद शायरी हिंदी में * Shayari In Hindi (* हिंदी में) सम्बंधित हर शायरी पोस्ट के अन्दर है.

Zid Shayari
शब ए वस्ल जिद में बसर हो गई
नहीं होते होते सहर हो गई

दिल हर जिद मनवा लेता है
ये बच्चा शैतान बहुत है

मिस्ल ए तिफ्लाँ वहशियों से जिद है चर्ख ए पीर को
गर तलब मुँह की करें बरसाए पत्थर सैकड़ों

साकी ओ वाइज में जिद है बादा कश चक्कर में है
तौबा लब पर और लब डूबा हुआ सागर में है

दिल भी बच्चे की तरह जिद पे अड़ा था अपना
जो जहाँ था ही नहीं उस को वहीं ढूँढना था

खुदा देवे अगर कुदरत मुझे तो जिद है जाहिद की
जहाँ तक मस्जिदें हैं मैं बनाऊँ तोड़ बुत खाना

मुमकिन नहीं चमन में दोनों की जिद हो पूरी
या बिजलियाँ रहेंगी या आशियाँ रहेगा

इधर फलक को है जिद बिजलियाँ गिराने की
उधर हमें भी है धुन आशियाँ बनाने की

जिद हर इक बात पर नहीं अच्छी
दोस्त की दोस्त मान लेते हैं

माना कि जिंदगी में है जिद का भी एक मकाम
तुम आदमी हो बात तो सुन लो खुदा नहीं

दिल भी इक जिद पे अड़ा है किसी बच्चे की तरह
या तो सब कुछ ही इसे चाहिए या कुछ भी नहीं

ज़िद शायरी | Zid Shayari 2 line or 4 line

ज़िद शायरी | Zid Shayari 2 लाइन या 4 लाइन नीचे दे रहें!

जिद में दुनिया की बहर हाल मिला करते थे
वर्ना हम दोनों में ऐसी कोई उल्फत भी न थी

ऐसी जिद का क्या ठिकाना अपना मजहब छोड़ कर
मैं हुआ काफिर तो वो काफिर मुसलमाँ हो गया

देखे कहीं रस्ते में खड़ा मुझ को तो जिद से
आता हो इधर को तो उधर ही को पलट जाए

क्या जिद है मिरे साथ खुदा जाने वगरना
काफी है तसल्ली को मिरी एक नजर भी

फनकार ब जिद है कि लगाएगा नुमाइश
मैं हूँ कि हर इक जख्म छुपाने में लगा हूँ

Read Also:Yarana Shayari 
Read Also:Jawabi Shayari 
Read Also:Yara Shayari 

ज़िद शायरी | Zid Shayari for ज़िद शायरी | Zid Shayari

वेबसाइट मुख्य पृष्ट पर नए पोस्ट है। पोस्ट में जानें, हम नीचे कुछ अन्य संबंधित ज़िद शायरी | Zid Shayari भेज रहे है। अभी कभी कुछ पृष्ट खाली दिखाई देंगे। उसके लिए आप हमारे संपर्क सूत्र से जुड़े, और अपडेट हेतु छोटी सी बात कहें।

ज़िद शायरी | Zid Shayari हिंदी में पढ़ें

कुछ पेज अभी भी आपके प्रतिक्रिया और अपडेट के लिए खाली है। आप भी इस वेबसाइट पर कुछ शायरी कोट्स स्टेटस पहुंचा सकते हैं। हमारी टीम 24 घंटे से 48 घंटे की कार्यवाही करके आपको सूचित करेगी। यदि आप ज़िद शायरी | Zid Shayari को पेज पर जोड़ना चाहते है, तो आप यहां से वेबसाइट पर अपना कंटेंट लिखें !

ज़िद शायरी | Zid Shayari 2 Line

हमारी टीम कुछ नए चेंज और बदलाब कर रही है, जिससे कुछ दिन लग सकते है। जैसे ही ये ज़िद शायरी | Zid Shayari के लिए कुछ अन्य को जोड़ा जाएगा, तो आपको यह अतिरिक्त और भी शब्द मिलेंगे। इसके अलावा जान लें, ... की ओर क्या नया आने वाला है?

ज़िद शायरी | Zid Shayari 2022-23

हमारी टीम कई लेख को अपडेट करने और ज़िद शायरी | Zid Shayari पेज को ओर बढ़ाने हेतु उत्सुक है। यदि आपके पास भी कोई ज़िद शायरी | Zid Shayari या संबंधित टॉपिक जानकारी है। तो हमसे संपर्क कीजिए या कॉमेंट में उस जानकारी को घुसा दीजिए। टीम आपके प्रयास और अपडेट को परख के बाद जोड़ेगी। साथ ही कुछ नए टॉपिक के विचार हेतु भी आपसे साझा किया जा रहा है। वर्ष 2023 प्रारंभ होने तक हम ज़िद शायरी | Zid Shayari और पोस्ट कई सारे बदलाव के लिए उत्सुक है। एन्जॉय शायरी के साथ जुड़कर विज्ञापन या कोई अन्य प्रचार के लिए आप हमारी टीम से संपर्क करें !

पढ़ने के लिए धन्यवाद,


TAG: ज़िद शायरी | Zid Shayari in hindi, shayari on ज़िद शायरी | Zid Shayari, ज़िद शायरी | Zid Shayari for ज़िद शायरी | Zid Shayari, ज़िद शायरी | Zid Shayari in english, ज़िद शायरी | Zid Shayari status in hindi, quotes on ज़िद शायरी | Zid Shayari in hindi, shayari for ज़िद शायरी | Zid Shayari, best ज़िद शायरी | Zid Shayari in 2022, ज़िद शायरी | Zid Shayari by ज़िद शायरी | Zid Shayari, ज़िद शायरी | Zid Shayari 2 line, ज़िद शायरी | Zid Shayari 4 line, ज़िद शायरी | Zid Shayari 2 लाइन, ज़िद शायरी | Zid Shayari 4 लाइन, ज़िद शायरी | Zid Shayari of ज़िद शायरी | Zid Shayari.